Home » राज्य » Goa Assembly polls 2017: The hot seats, the names you need to know & the numbers
 

गोवा विधानसभा चुनाव: अहम मुकाबले और महत्वपूर्ण सीटें

निहार गोखले | Updated on: 12 January 2017, 7:55 IST
(आर्या शर्मा/कैच न्यूज़)

40 सदस्यीय गोवा विधानसभा के चुनाव 4 फरवरी 2017 को होने हैं. गोवा के इतिहास में इससे पहले ऐसा कोई और चुनाव नहीं हुआ. सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के पास 21 सीटें हैं और उसका मुकाबला न केवल मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस से है बल्कि आम आदमी पार्टी और अपने ही कुछ पुराने सहयोगियों से भी है. 2012 के चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस को हरा दिया. था.

प्रदेश में आप नए खिलाड़ी के रूप में उभरी है. आप पार्टी स्वयं को कांग्रेस और भाजपा का मजबूत विकल्प बता रही है. भाजपा का मुकाबला इस बार अपने ही पुराने हिन्दूवादी साथियों से भी है. इनमें महाराष्ट्रवादी गोमान्तक पार्टी, शिव सेना और प्रदेश की आरएसएस की गोवा इकाई के कुछ बागियों द्वारा गठित गोवा सुरक्षा मंच शामिल है.

2007 से 2012 तक कांग्रेस और 2012 से 2017 तक भाजपा की सरकारें गोवा में स्थाई रही हैं, अन्यथा यहां गबठबंधन टूटने, हॉर्स ट्रेडिंग और अवसरवादी निर्दलीय विधायकों के कारण अधिकतर सरकारें बनती और गिरती रही हैं.

राजनीतिक समीकरण

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की प्रदेश इकाई से बगावत करने वाले प्रभावशाली नेता सुभाष वेलिंगकर ने 2016 के बीच में ही नई पार्टी बनाने और चुनावों में भाजपा को हराने की घोषणा कर दी थी. वे इस बात पर नाराज थे कि भाजपा ने अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों को आर्थिक सहायता देने का वादा पूरा नहीं किया. वेलिंगकर को संघ से निकाल दिया गया और अब वे गोवा सुरक्षा मंच पार्टी के अध्यक्ष हैं.

प्रदेश के सबसे पुराने दल एमजीपी ने पिछले सप्ताह ही भारतीय जनता पार्टी से समर्थन वापस ले लिया

प्रदेश के सबसे पुराने क्षेत्रीय संगठन एमजीपी ने पिछले सप्ताह ही भारतीय जनता पार्टी से समर्थन वापस ले लिया और भाजपा का यह गठबंधन टूट गया. एमजीपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्रियों सुदिन ओर दीपक धावालिकर ने मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पार्सेकर पर राज्य को दस साल पीछे धकेलने का आरोप लगाते हुए उनकी आलोचना करनी शुरू कर दी. सुदिन मुख्यमंत्री पद के दावेदार माने जा रहे हैं. 

एमजीपी ने वेलिंगकर के गोवा सुरक्षा मंच और शिवसेना से हाथ मिला लिया है और वे सुदिन को मुख्यमंत्री पद के दावेदार के रूप में पेश कर रहे हैं. भाजपा फिलहाल लक्ष्मीकांत पार्सेकर को अपना सीएम उम्मीदवार घोषित करने को लेकर चुप्पी साधे हुए है. 

मौजूदा विधानसभा में 9 सीटों वाली कांग्रेस नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी और दो क्षेत्रीय दलों गोआ फॉरवर्ड और यूनाइटेड गोअन्स पार्टी के साथ गठबंधन को राजी हो गई है. गोवा फॉरवर्ड के नेता कांग्रेस के पूर्व विधायक विजय सरदेसाई हैं. यूजीपी के नेता हाल ही कांग्रेस से निष्कासित विधायक एटानासियो उर्फ बाबुश मॉसेरैट हैं.

चुनावों से ठीक पहले कांग्रेस के दो प्रभावशाली विधायक मॉविन गॉडिन्हो और पांडुरंग मडकैकर भाजपा में शामिल हुए हैं. गौडिन्हो को एक बार मनोहर पर्रिकर ने भ्रष्ट बताया हुआ है और मडकैकर केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद येसो नाइक के बेटे सिद्देश नाइक के राजनीतिक प्रतिद्वंदी रह चुके हैं.

आंकड़ों का गणित

गोवा में करीब 11 लाख मतदाता हैं. यह दिल्ली के मतदाताओं का मात्र दसवां हिस्सा है जबकि उत्तर प्रदेश के मतदाताओं का मात्र 1 प्रतिशत. हर विधानसभा क्षेत्र में करीब 30,000 वोट डाले जाते हैं. एक उम्मीदवार को जीतने के लिए लगभग 10,000 के आस-पास वोट की दरकार होती है.

2012 के चुनावों में महिला मतदाताओं की संख्या पुरूष मतदाताओं की तुलना में ज्यादा थी. फिर भी केवल एक ही महिला विधायक चुनी गई. बाबुश मान्सैरेट की पत्नी जेनिफर मॉन्सेरेट ही वह एक मात्र महिला विधायक थी. उन्होंने अपने पति की सीट पर चुनाव लड़ा था.

2012 के चुनावों में भाजपा ने 34 फीसदी वोटों के साथ 40 में से 21 सीटें जीती थी और कांग्रेस ने 30 फीसदी वोटों के साथ 9 सीटें जीती थीं. भाजपा की तत्काली गठबंधन सहयोगी एमजीपी ने 3 सीटें जीतीं जबकि 5 निर्दलीय चुने गए, जिनमें से 3 को भाजपा का समर्थन हासिल था.

40 सीटों में से केवल एक सीट परनेम अनुसूचित जाति की है. इस समय इस सीट का प्रतिनिधित्व भाजपा के मंत्री राजेंद्र अर्लेकर कर रहे हैं. अभी तक उन्होंने दोबारा नामांकन नहीं भरा है.

हॉट सीट

पणजी से तत्कालीन मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर विजयी हुए थे. उनके रक्षा मंत्री बनने के बाद यहां से भाजपा के कुनकोलिअंकर जीत कर आए. अब धुरंधर नेता बाबुश मॉंन्सरेट ने कांगेस के साथ गठबंधन की उम्मीद में इस सीट से अपनी उम्मीदवारी जताई है. इस सीट से आप पार्टी ने वाल्मिकी नाइक और गोवा सुरक्षा मंच ने पर्रिकर के पूर्व सहायक कृष्णराज सुकेरकर को चुनाव मैदान में उतारने का फैसला किया है.

कनकोलिम, दक्षिणी गोवा की इस सीट से आप पार्टी ने अपने मुख्यमंत्री पद के दावेदार उम्मीदवार एल्विस गोम्स को चुनाव लड़वाने का फैसला किया है.

कुम्बर्जुआ, कांग्रेस के निवर्तमान विधायक पांडुरंग मडकैकर के भाजपा में शामिल होने के बाद गोवा की यह महत्वपूर्ण सीट चर्चा में है. भाजपा कार्यकर्ता असंतुष्ट हैं और साथ ही केंद्रीय मंत्री श्रीपद येसो नाइक भी, जिनके पुत्र सिद्देश को भी टिकट चाहिए.

मेनड्रम, उत्तरी गोवा की इस सीट का प्रतिनिधित्व फिलहाल मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पार्सेकर कर रहे हैं.

First published: 12 January 2017, 7:55 IST
 
निहार गोखले @nihargokhale

Nihar is a reporter with Catch, writing about the environment, water, and other public policy matters. He wrote about stock markets for a business daily before pursuing an interdisciplinary Master's degree in environmental and ecological economics. He likes listening to classical, folk and jazz music and dreams of learning to play the saxophone.

पिछली कहानी
अगली कहानी