Home » राज्य » Gujarat Government officer told himself kalki incarnation God avtaar
 

गुजरात: अफसर ने खुद को बताया विष्णु का कल्कि अवतार, बारिश के लिए अपनी तपस्या को दिया क्रेडिट

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 May 2018, 11:16 IST
(Facebook)

गुजरात सरकार के एक अधिकारी ने अजीबोगरीब दावा किया है. इस अधिकारी ने खुद को भगवान विष्णु का दशम अवतार कल्कि बताया है. इसी के साथ उसने कहा कि वह, 'विश्व का अंत: करण' बदलने के लिए 'तपस्या' कर रहा है. इसलिए वह दफ्तर नहीं आ सकता.

अधिकारी ने ये बात सरदार सरोवर पुनर्वास एजेंसी द्वारा उसे भेजे गए कारण बताओ नोटिस के जवाब में कही है. क्योंकि वह सरदार सरोवर पुनर्वास एजेंसी में बतौर अधीक्षण अभियंता कार्यरत है. उसका नाम रमेश चंद्र फेफर है.

यही नहीं रमेश चंद्र ने जवाब में लिखा है कि उसकी तपस्या को धन्यवाद, कि देश में अच्छी बारिश हो रही है. अब रमेश चंद्र फेफर का ये अजीबोगरीब जवाब वायरल हो रहा है. फेफर ने राजकोट स्थित आवास पर मीडिया से कहा, ‘‘ आप विश्वास नहीं करेंगे लेकिन मैं वस्तुत: भगवान विष्णु का दशम अवतार हूं और आने वाले दिनों में मैं इसे साबित कर दूंगा. मैं मार्च 2010 में कार्यालय में था तो मैने महसूस किया कि मैं कल्कि अवतार हूं. तब से मेरे पास दिव्य शक्तियां हैं.’’

बता दें कि एजेंसी ने फेफर को तीन दिन पहले ही कारण बताओ नोटिस भेजा था. जिसके जवाब में उसने कहा था कि वह कार्यालय नहीं आ सकता क्योंकि वह तपस्या में लीन है. फेफर ने एजेंसी को दो पेज में जवाब लिख कर भेजा है. जिसमें उसने कहा है कि, ‘‘ मैं उम्र के पांचवे दशक में प्रवेश करने के साथ ही वैश्विक अंत: करण के बदलाव के लिए अपने घर में तपस्या कर रहा हूं. मैं ऑफिस में बैठ कर इस तरह की तपस्या नहीं कर सकता हूं.’’

यही ने फेफर ने दावा किया है कि उसकी तपस्या की वजह से ही भारत में पिछले 19 साल से अच्छी बारिश हो रही है. रमेश चंद्र ने कहा कि अब यह सरदार सरोवर पुनर्वास एजेंसी को तय करना चाहिए कि एजेंसी के लिए मुझे आफिस में बैठा कर समय पास करवाना महत्वपूर्ण है कि देश को सूखे से बचाने के लिए कुछ ठोस काम करना. गौरतलब है कि फेफर वड़ोदरा स्थित अपने दफ्तर में पिछले आठ महीने में सिर्फ 16 दिन ही ऑफिस पहुंचा है.

ये भी पढ़ें- नितिन गडकरी के बोल- ठेकेदारों को बुलडोजर के नीचे डाल दूंगा

First published: 19 May 2018, 10:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी