Home » राज्य » in Chhatisgarh, Children of socially boycotted family forced to carry dead elder for cremation
 

छत्तीसगढ़ में मानवता शर्मसार, अंतिम संस्कार में भी नहीं शामिल हुए ग्रामीण

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 June 2017, 16:46 IST
(National Geographic )

छत्तीसगढ़ के एक गांव गरियाबंद में नाबालिग का बलात्कार होने पर उसके परिवार का सामाजिक बहिष्कार कर दिया गया था. हाल ही में उसी परिवार के एक सदस्य की जब मौत हुई तो गांव वाले उसके अंतिम संस्कार में भी शामिल नहीं हुए. लाश का अंतिम संस्कार करने के लिए पीड़ित परिवार को जबरन गांव से बाहर तक भेजा गया.

नाबालिग का बलात्कार साल 2015 में हुआ था मगर बच्ची को अलग करने की बजाय घऱवालों ने उसे अपने साथ रखा. बलात्कार के कारण नाबालिग गर्भवती हो गई थी और बाद में उसने एक शिशु को जन्म भी दिया. मगर ऐसा होने पर गरियाबंद गांव के लोगों ने पूरे परिवार का बहिष्कार कर दिया था.

इसी परिवार के एक सदस्य की मौत होने पर ग्रामीणों ने गांव में अंतिम संस्कार नहीं करने दिया. फिर परिवार के दो नाबालिग जिसमें एक लड़की भी है, लाश को गांव से बाहर ले गए जहां अंतिम संस्कार हुआ.

इस पूरे घटनाक्रम की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं. एसडीएम बीआर साहू ने कहा है कि उन्हें घटना के बारे में पता चला है और वह इसकी जांच कर रहे हैं.

First published: 2 June 2017, 16:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी