Home » राज्य » In Didi's den, Amit Shah blows bugle for 2019, blames her for polarisation
 

दीदी की मांद में घुसकर अमित शाह ने बजाया 2019 का बिगुल

सुलग्ना सेनगुप्ता | Updated on: 28 April 2017, 10:26 IST

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बुधवार के दिन ममता बनर्जी की मांद में घुसकर 2019 का चुनावी बिगुल बजा दिया और उन पर कई आरोप लगाए. भबानीपुर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री का विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र है और शाह ने वहीं चेतला लॉकगेट पर ‘बूथ चलो अभियान’ शुरू किया. वे इस इलाके के पांच परिवारों से भी मिले.


उन्होंने कहा कि बनर्जी की सरकार बंगाल के लोगों के हालात सुधारने की बजाय, अल्पसंख्यकों को तुष्ट करने में लगी है. वह खुल्लम-खुल्ला वोट बैंक की राजनीति खेल रही है. ‘बनर्जी की तुष्टिकरण की राजनीति के कारण ही राज्य में धार्मिक ध्रुवीकरण हो रहा है, जो पहले बंगाल में कभी नहीं था.’ उन्होंने आगे कहा, भाजपा ‘को पूरा भरोसा है कि 2019 के चुनावों में पश्चिम बंगाल से हमारी सीटें बढ़ेंगी. भबानीपुर में पिछले विधानसभा चुनावों में हमें पहले से ज्यादा वोट मिले थे.’ शाह ने लोगों से भाजपा को अगले चुनावों में वोट देने का अनुरोध किया. उन्होंने कहा कि केवल उनकी पार्टी ही राज्य में विकास कर सकती है.

 

शाह के दावे


शाह ने बनर्जी के इस आरोप का खंडन किया कि केंद्र राज्य को आर्थिक सहयोग नहीं कर रहा. उन्होंने कहा कि राज्य के विकास के लिए केंद्र सरकार ने कई योजनाएं बनाई थीं. पश्चिम बंगाल से गरीबी और बेरोजगारी दूर करने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों पर केंद्र ने काफी खर्च किया है. शाह ने इसका हिसाब भी बताया.


शाह ने आगे कहा कि अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (एआईटीसी) ने केंद्र और अन्य वित्तीय संस्थाओं से पहले से ज्यादा ऋण लिया है. 2011 में वाम मोर्चा शासन के अंत में जो ऋण 1.92 लाख करोड़ रुपए था, एआईटीसी के शासन में 3.5 लाख करोड़ रुपए हो गया है. सीपीआई (एम) वाले सालों में भारतीय बैंकों में पश्चिम बंगाल का जमा 18 प्रतिशत था, जो बाद में 12 प्रतिशत रह गया और अब बनर्जी के शासन में 6.3 प्रतिशत ही रह गया.

बंगाल का आर्थिक विकास 25 प्रतिशत की तुलना में अब 4 प्रतिशत ही है. पूरे देश में प्रति व्यक्ति बिजली का उपभोग 957 यूनिट है, जबकि पश्चिम बंगाल में 601 यूनिट है. पश्चिम बंगाल में हर 5वां व्यक्ति गरीबी रेखा से नीचे है. शाह ने कहा कि बंगाल की अर्थव्यवस्था बहुत खराब है. ‘भाजपा पर भरोसा करें और पार्टी सब ठीक कर देगी.’

 

वे झूठ बोल रहे हैं


शाह ने राज्य सरकार को चुनौती दी कि यदि उनके बताए आंकड़े सही नहीं हैं, तो वह उन्हें गलत सिद्ध करे. दूसरी ओर अलीपुर द्वार में बनर्जी ने दावा किया कि पश्चिम बंगाल में कृषि विकास 6 प्रतिशत है, जबकि पूरे देश में 1.1 प्रतिशत. उन्होंने इसका दावा भी किया कि बंगाल का उद्योगिक विकास 10.95 प्रतिशत है, जबकि पूरे देश में 3.7 प्रतिशत है. सीएम ने कहा, ‘वे (भाजपा) झूठ बोल रहे हैं. मैं आपको भरोसा दिला सकती हूं कि मेरे आंकड़े सही हैं. वे पश्चिम बंगाल के विकास से जलते हैं, इसलिए लोगों के सामने गलत तस्वीर बना रहे हैं.’


बनर्जी की अल्पसंख्यकों की कथित तुष्टिकरण की राजनीति पर शाह ने कहा, ‘राज्य में घोर पिछड़ापन है, यहां विकास नहीं हो रहा है, पर दीदी अल्पसंख्यकों को तुष्ट करने, वोट बैंक की राजनीति करने और भ्रष्टाचार में लगी हैं. ममताजी, आप अपनी ऊंची से ऊंची आवाज में चिल्ला सकती हैं, हमारी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर जुल्म कर सकती हैं, पर आप जितना जोर से चिल्लाएंगी, उतनी ही तेजी से कमल खिलेगा.’


‘मैं कल्पना नहीं कर सकता कि दुर्गा विसर्जन की अनुमति लेने लोगों को कलकत्ता हाई कोर्ट जाना पड़ता है. सरस्वती पूजा तक सरकार ने रुकवा दी. एआईटीसी को इसका जवाब देना पड़ेगा. हमें विश्वास है, 2019 में राज्य में कमल पूरा खिलेगा और हमारी पार्टी को पश्चिम बंगाल से अधिकतम सीटें मिलेंगी.’


शाह ने सारदा और नारदा जैसे घोटालों के लिए सत्तासीन पार्टी को फटकार लगाई और कहा कि उसे भ्रष्टाचार के लिए लोगों को जवाब देना पड़ेगा. उन्होंने कहा, ‘एआईटीसी नेताओं ने जो पैसा लिया, वह कोई मनगढ़ंत कहानी नहीं है. वीडियो फुटेज से पता चला है कि एआईटीसी नेता पैसा ले रहे थे. आप हमारा कोई भी नेता बता सकते हैं, जो ऐसे पैसा लेता हो. मैं सबको चैलेंज करता हूं.’


कई राज्यों में गोरक्षकों ने अति कर रखी है. उसके बारे में शाह कहते हैं, ‘अगर कोई भी कानून का उल्लंघन करते हुए पाया जाएगा, तो उसके साथ सख्ती की जाएगी. मामले दर्ज किए गए हैं और लोगों को पकड़ा गया है. किसी को भी अपने हाथ में कानून नहीं लेना चाहिए.’


बंगाल में गोहत्या पर प्रतिबंध के संदर्भ में शाह ने कहा, ‘संविधान की प्रस्तावना में इसकी (प्रतिबंध) स्थापना की गई है. अगर बंगाल में भाजपा सरकार बनती है, तो वह इसकी जिम्मेदारी लेगी.’

 

विपक्ष का पक्ष


बंगाल के संसदीय मामलों के मंत्री पार्थ चटर्जी ने शाह के भाषण का मजाक बनाते हुए कहा, ‘भाजपा 3019 में भी सत्ता में नहीं आ सकती, 2019 को तो भूल ही जाए.’सीपीआई (एम) नेता मोहम्मद सलीम ने कहा, ‘भाजपा और एआईटीसी गुपचुप एक दूसरे का साथ दे रहे हैं. यह नाटक हम से छिपा नहीं है.’

 

 

First published: 28 April 2017, 10:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी