Home » राज्य » In Goa, AAP gives signed guarantees to fulfill poll promises
 

गोवा: आप का चुनावी कैंपेन का नायाब नुस्खा वोटरों का मूड बदल सकता है

निहार गोखले | Updated on: 22 January 2017, 8:53 IST
(कैच न्यूज़)

बिना वादों के भारत में चुनाव अधूरे हैं, और वादों को पूरा करने के बजाय उनको मजाक में उड़ाने वाले राजनीतिज्ञों के बिना भारत में राजनीति अधूरी है. आम आदमी पार्टी के गोवा में चुनावी अभियान ने इस विषय को गंभीरता से लिया है. गोवा में चार फरवरी को होने वाले विस चुनाव के लिए आप पार्टी के उम्मीदवार ऐसे लीफलेट और डेबिट कार्ड आकार के प्लास्टिक कॉर्ड बांट रहे हैं जिनमें उन छह सामाजिक कल्याण योजनाओं का उल्लेख है जिनको पूरा करने का वादा पार्टी कर रही है. 

इन लीफलेट और कार्ड की खास बात यह है कि इनमें आप की ओर से मुख्यमंत्री पद के लिए चेहरा बनाए गए एल्विस गोम्स के हस्ताक्षर हैं. यानी कि पार्टी इस बात के लिए लिखित गारंटी दे रही है कि वह इन वादों को पूरा करेगी.

उदाहरण के लिए इसमें पहला वादा किया गया है कि "आप युवक स्कीम के अंतर्गत सभी बेरोजगारों को 5000 रुपये प्रतिमाह बेरोजगार भत्ते के रूप में दिए जाएंगे." इसके कहा गया है, "मैं, एल्विस गोम्स, इस बात की गारंटी देता हूं कि आपको प्रतिमाह 5000 रुपये दिए जाएंगे. " इसके बाद इन कार्ड्स में महिलाओं, सीनियर सिटीजन, विकलांगों, एड्स रोगियों के लिए निर्धारित पांच योजनाओं का उल्लेख किया गया है और सबके अंत में यही जोड़ा गया है "मैं, एल्विस गोम्स, ...". इसके बाद गोम्स के हस्ताक्षर अंकित हैं.

भरोसे के लिए लीफलेट और कार्ड्स

सिर्फ यही नहीं है. हरेक लीफलेट एक ग्लेज पेपर पर मुद्रित है और इनके अंत में निर्धारित खाली जगह छोड़ी गई है. यहां पर आप के स्वयंसेवक प्रत्येक उस व्यक्ति का नाम, एड्रेस और संपर्क नंबर लिख रहे हैं जिनके घर वे अपने डोर—टू—डोर कैंपेन के दौरान जा रहे हैं. प्रत्येक वोटर को एक विशेष पंजीकरण नंबर दिया जा रहा है. 

इस नंबर को उस व्यक्ति को दिए गए लीफलेट पर भी नोट कर दिया जा है. लीफलेट उस व्यक्ति को दे दिया जाता है और इस स्लिप का वह हिस्सा स्वयं सेवक अपने पास रख लेता है जिसमें वोटर का नाम, पता आदि का लिखा होता है. कुछ मामलों में पार्टी वोटर को प्लास्टिक कार्ड्स भी दे रही है. इसमें भी वोटर को पंजीकरण नंबर दर्ज किया जा रहा है.

लीफलेट की तरह ही इन कार्डस पर भी अरविंद केजरीवाल और एल्विस गोम्स के फोटो हैं. साथ ही इसमें आगे कहा गया है, कि 'मैं, एल्विस गोम्स, आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार के रूप में आपको और आपके परिवार को पार्टी की सामजिक कल्याण योजनाओं की गारंटी देता हूं. इस कार्ड के पीछे भी यह लिखा गया है'. यह कार्ड आम आदमी पार्टी गोवा की इस वचन बद्धता का प्रतीक है कि आप पार्टी की सामाजिक कल्याण योजना को हर हाल में पूरा किया जाएगा. इस कार्ड को संभाल कर किसी सुरक्षित स्थान पर रखें.

इस सबको करने के पीछे मुख्य उद्देश्य यह है कि अगर आप पार्टी सत्ता में आती है और अपनी योजनाओं को लागू नहीं करती है तो मतदाता इस लीफलेट पर अंकित अनोखे पंजीकरण नंबर को दिखाकर गोम्स को उनकी गारंटी के वचन को याद दिला सकती है.

आप पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि यह एल्विस गोम्स की ओर से एक आश्वासन है कि सभी योजनाओं का पूर्ण क्रियान्वयन होगा. पार्टी इन पर्चों को निर्वाचन क्षेत्र के हिसाब से मराठी और अंग्रेजी में बांट रही है. 

यह पूछे जाने पर कि आप के घोषणा पत्र में माइनिंग और कृषि के संबंध में जो वादे किए गए हैं उनको भी क्यों नहीं इसी तरह वचनबद्धता के साथ पेश किया जा रहा है, पार्टी के उपरोक्त नेता ने बताया कि सामाजिक कल्याण योजनाएं गणना योग्य ऐसी चीजें हैं जिनका क्रियान्वयन सीधे राज्य के कोष से जुड़ा हुआ है. जबकि दूसरे वायदों का स्वरूप इतना ठोस न होकर सामान्य है.

गंभीरता से सुनते हैं वोटर

एक आप उम्मीदवार ने बताया कि इन कॉर्ड और लीफलेट को बांटने के पीछे एक कारण दूसरी पार्टियों के नकद पैसा बांटने की रणनीति का मुकाबला करना है. उम्मीदवार के अनुसार जब हम किसी वोटर के यहां जाकर उसके अपने वादों और घोषणा पत्र के बारे में बताते हैं तो वह हमें गंभीरता से नहीं लेते. लेकिन जब हम उनको इन वित्त संबंधी योजनाओं और इनकी गारंटी के बारें में बताते हैं तो वे हमें गंभीरता से सुनते हैं. 

पार्टी के इस उम्मीदवार के अनुसार अरविंद केजरीवाल को भी यह आइडिया बहुत पसंद आया था. आप उम्मीदवार का दावा है कि गोवा में राजनीतिक दलों के लिए वोटरों को 1000-2000 रुपये देना अब बहुत सामान्य बात हो चुकी है. एक चुनावी रैली में केजरीवाल ने मतदाताओं से कहा था कि वे पैसे ले लें लेकिन वोट आप को ही दें. केजरीवाल के इस बयान को चुनाव आयोग में चुनौती दी जा चुकी है.

दरअसल इन पर्चों में उन्हीं योजनाओं का ब्योरा है जिनमें आर्थिक लाभ संबंधी योजनाओं की घोषणा की गई है. उदाहरण के लिए आप ममता योजना में यह वादा किया गया है कि अगर कोई लड़की पैदा होती है तो 10000 रुपये, उसके टीकाकरण पर 10 हजार रुपये और उसके कक्षा 10, बारह तथा स्नातक पास होने पर 10-10 हजार रुपये देने का वादा दिया गया है.

आप की दयानंद सामाजिक सुरक्षा योजना के अंतर्गत वरिष्ठ नागरिकों को 3000 रुपये प्रतिमाह पेंशन देने की योजना है वहीं आम औरत गृह आधार योजना के अंतर्गत प्रत्येक विवाहित या अविवाहित औरत के लिए जिसकी वार्षिक आय 5 लाख रुपये वार्षिक से कम है, उसको जीवनभर 3000 रुपए प्रति माह देने का वादा किया गया है.

आपको बता दें कि इनमें से अधिकांश योजनाएं जिनकी घोषणा 24 दिसंबर को की गई थी पहले ही किसी रूप में हैं. अब सिर्फ इनकी मात्रा बढ़ाई गई है. मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर ने उसी दिन प्रेस से बातचीत में कहा था कि उन्हें हैरानी यह है कि इस सब के लिए पैसा कहां से आएगा. बता दें कि 2015 में गोवा सरकार का कर्ज उसके जीडीपी की तुलना में पूरे देश में पांचवें नंबर पर है.

First published: 22 January 2017, 8:53 IST
 
निहार गोखले @nihargokhale

Nihar is a reporter with Catch, writing about the environment, water, and other public policy matters. He wrote about stock markets for a business daily before pursuing an interdisciplinary Master's degree in environmental and ecological economics. He likes listening to classical, folk and jazz music and dreams of learning to play the saxophone.

पिछली कहानी
अगली कहानी