Home » राज्य » Jharkhand: Seeing the unemployment in the state, CM soren had to start employment guarantee scheme like MNREGA
 

झारखंड : शहरों में बेरोजगारी का आलम देख चौंक गए CM हेमंत सोरेन, शुरू की मनरेगा जैसी जॉब स्कीम

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 August 2020, 14:29 IST

झारखंड (Jharkhand) के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शुक्रवार को राज्य के शहरी क्षेत्रों में अकुशल (unskilled) श्रमिकों के लिए एक रोजगार योजना (employment scheme) की घोषणा की और दावा किया कि इससे 5 लाख गरीब परिवारों को फायदा होगा. मुख्यमंत्री SHRAMIK (शहरी रोज़गार मंजूर फॉर कामगार) योजना में आवेदन करने के 15 दिनों के भीतर साल में 100 दिन का काम दिया जायेगा. सीएम सोरेन ने कहा कि यह परियोजना 'महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी' योजना के समान है.

एक रिपोर्ट के अनुसार राज्य के सचिव विनय कुमार चौबे ने कहा कि जिन श्रमिकों की आयु 18 वर्ष से अधिक है और 1 अप्रैल 2015 से नागरिक निकाय क्षेत्रों (civic body-run areas) में रह रहे हैं, वह योजना के लिए आवेदन करने के पात्र हैं. योजना के क्रियान्वयन के लिए राज्य शहरी विकास विभाग जिम्मेदार होगा. चौबे ने कहा "यह हमारे पोर्टल के माध्यम से या वार्ड-स्तरीय व्यक्तियों के माध्यम से नौकरी के लिए आवेदन करने का एकमात्र मानदंड है."


ऑनलाइन योजना शुरू करने पर सीएम सोरेन ने कहा कि अगर राज्य सरकार दिए गए समय के भीतर रोजगार देने में विफल रही, तो वह आवेदकों को बेरोजगारी भत्ता देंगे, जो उनके बैंक खातों में ट्रांसफर कर दिया जाएगा. उन्होंने कहा "इसका मकसद यह है कि कोई भी व्यक्ति भूखा रहे और न भूख से मरे''. मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार को झारखंड में कार्यबल की भयावहता का पता नहीं था और साथ ही उन लोगों की संख्या का भी जो आजीविका की तलाश में दूसरे राज्यों की ओर पलायन कर रहे थे. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण इनका पता चला. और तब से हमने इस योजना के बारे में सोचना शुरू किया.

Gold Price Today: स्वतंत्रता दिवस पर सोने की कीमतों में गिरावट, जानिए आज प्रमुख शहरों के दाम

10 लाख लोग लौटे वापस 

सोरेन ने अनुमान लगाया कि लॉकडाउन के बाद 10 लाख से अधिक लोग राज्य लौट आए. मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरी क्षेत्र के लगभग 31 फीसदी निवासी गरीबी रेखा से नीचे हैं और सरकार उन्हें इस योजना के तहत कवर करने का लक्ष्य बना रही है. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक शहरी गरीबों के लिए रोजगार योजना शुरू करने के लिए झारखंड केरल के बाद दूसरा राज्य है. केरल ने जून में अय्यनकाली शहरी रोजगार गारंटी योजना (Ayyankali Urban Employment Guarantee Scheme) शुरू की थी.

Tax reform: PM मोदी ने लॉन्च किया ईमानदार करदाताओं के लिए नया प्लेटफार्म, पढ़िए क्या हैं बड़ी घोषणाएं

 

First published: 15 August 2020, 13:59 IST
 
अगली कहानी