Home » राज्य » Karnataka Assembly Election 2018 PM Modi Talks to SC ST OBC Morcha workers by Namo App
 

पीएम मोदी का दावा, भाजपा के साथ सबसे ज्यादा जुड़ा दलित वर्ग

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 May 2018, 10:38 IST

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए आज शाम चुनाव प्रचार थम जाएगा. कर्नाटक की सत्ता में बीजेपी की वापसी के लिए पीएम मोदी ने भी ताबड़तोड़ रैलियां की. पीएम मोदी ने चुनाव प्रचार के लिए नमो ऐप का भी इस्तेमाल किया. पीएम मोदी ने नमो ऐप के जरिए कर्नाटक बीजेपी के तमाम कार्यक्ताओं से बात की. इस दौरान पीएम मोदी ने SC/ST/OBC और स्लम मोर्चा के कार्यकर्ताओं से भी बातचीत की.

पार्टी कार्यकर्ताओं से बातचीत करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि SC/ST/OBC के लोग आज सबसे ज्यादा बीजेपी से जुड़े हुए हैं. पीएम ने कहा कि इस वर्ग के सबसे ज्यादा प्रतिनिधि बीजेपी से ही हैं. वहीं बेंगलुरु के एक फ्लैट में वोटर आईडी कार्ड पकड़े जाने के मुद्दे पर भी पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोला. पीएम ने कहा कि कांग्रेस ने इन दिनों कई कारनामे शुरू किए हैं, कांग्रेस अब फेक वोटर आईडी कार्ड बना रही है.

इसी के साथ पीएम ने कार्यकर्ता को इन समुदायों के लोगों के घर जाकर सरकारी योजनाओं की जानकारी देने की बात कही. पीएम ने कहा कि बीजेपी देश के हर वर्ग के लिए समर्पित पार्टी रही है, हमारा लक्ष्य आखिरी छोर पर बैठे हुए व्यक्ति का कल्याण करना है. इस दौरान पीएम ने संविधान निर्माता बाबा साहेब अंबेडकर और ज्योतिराव फुले द्वारा किए गए दलित समुदाय के काम की बात भी की.

 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार ने बाबा साहेब के सम्मान के लिए काफी काम किया है, हमने उनसे जुड़ी कई भूमियों को पंचशील की तरह बनाने का काम किया है. पीएम ने SC/ST एक्ट के मुद्दे पर कहा कि हमारी सरकार ने इस कानून को मजबूत करने का काम किया है, ताकि दलित और आदिवासी सम्मानपूर्वक जी सकें.

उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस के दिल में दलित और पिछड़ों के लिए कोई जगह नहीं है, ना ही उनके दिल में बाबा साहेब के लिए कोई सम्मान है. कांग्रेस ने बाबा साहेब को हराने के लिए पूरी शक्ति लगा दी. पीएम ने कहा कि बीजेपी हमेशा बाबा साहेब के सम्मान के लिए लड़ती रही और खड़ी रही है.

बता दें कि कर्नाटक विधानसभा के लिए शनिवार को वोट डाले जाएंगे. इस चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी दोनों की ही साख दाव पर लगी हुई है. क्योंकि बीजेपी जहां 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए अभी से तैयारी कर रही है. अगर बीजेपी कर्नाटक चुनाव जीतती है तो उस 2019 लोकसभा चुनाव के लिए कर्नाटक में मजबूत हो जाएगी, वहीं कांग्रेस देश के कई राज्यों में हारने के बाद अपने वजूद के लिए कर्नाटक की सत्ता को बचानी चाहती है. दोनों ही पार्टियों में कांटे का मुकाबला होता दिखाई दे रहा है.

ये भी पढ़ें- मुफ़्ती ने की मोदी सरकार से अपील, घाटी की शांति के लिए अपनाए वाजपेयी फार्मूला

First published: 10 May 2018, 10:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी