Home » राज्य » Karnataka Elections AIMIM Leader Asaduddin Owaisi Wear Saffron Turban in campaign for Janta Dal Secular in Belgaum
 

कर्नाटक: असदुद्दीन ओवैसी ने भगवा पगड़ी पहन इस पार्टी के लिए मांगे वोट

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 May 2018, 11:11 IST

AIMIM प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी बीजेपी और आरएसएस को लगातार कोसते रहते हैं और भगवा पर सवाल उठाते रहते हैं. लेकिन इस बार ओवैसी खुद ही भगवा रंग में नजर आए. कर्नाटक में एक चुनावी रैली के दौरान ओवैसी भगवा पगड़ी पहने नजर आए. इस दौरान ओवैसी ने जनता को संबोधित किया. बता दें कि आमतौर पर ओवैसी शेरवानी और सिर पर टोपी लगाए दिखाई देते हैं, लेकिन कर्नाटक में उनका अलग रंग दिखाई दिया.

भगवा रंग की पगड़ी पहने ओवैसी को देखकर हर कोई हैरान रह गया. अब सोशल मीडिया पर ओवैसी की भगवा पगड़ी यूजर्स के बीच चर्चा का विषय बन गई है. दरअसल, कर्नाटक चुनाव में एचडी देवेगौड़ा की पार्टी जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) भी चुनाव प्रचार में लगी हुई है. बेलगाम में जेडीएस प्रत्याशी के समर्थन में ओवैसी सभा को संबोधित करने पहुंचे थे. उन्होंने जेडीएस प्रत्याशी के लिए जनता से वोट मांगे. उनका भाषण सुनने के लिए भारी भीड़ जुटी हुई थी. लेकिन रैली में भी ओवैसी को पहनाई गई भगवा पगड़ी की खूब चर्चा हुई.

रैली में पहुंचे ओवैसी को मंच पर ही भगवा पगड़ी पहनाई गई. ओवैसी को भगवा पगड़ी में देखकर सोशल मीडिया पर चर्चा शुरू हो गई. किसी ने ओवैसी को राम मंदिर का नारा लगाने वाला कहा तो किसी ने कहा कि ओवैसी हिंदू विरोधी नहीं है, वह आरएसएस और बीजेपी विरोधी है. ओवैसी की भगवा पगड़ी को लेकर यूजर्स तरह-तरह के कमेंट्स कर रहे हैं. एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि, 'हवा बदल गई...ओवैसी भी भगवा हो गया…'

बता दें किओवैसी की पार्टी AIMIM कर्नाटक में किसी भी सीट पर चुनाव नहीं लड़ रही है. उनकी पार्टी ने जनता दल सेक्युलर के लिए चुनाव प्रचार करने का ऐलान किया है. वहीं जेडीएस ने भी मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में ओवैसी को प्रचार के लिए बुलाया है. वैसे चुनावी रैलियों में ओवैसी के निशाने पर मुख्यतौर पर सत्ताधारी कांग्रेस ही है.

चुनाव प्रचार के दौरान ओवैसी केंद्र की मोदी सरकार पर भी निशाना साधने से नहीं चूकते. 224 सीटों वाली कर्नाटक विधानसभा के लिए 12 मई को वोट डाले जाएंगे. मतों की गिनती 15 मई को होगी. वहीं कई न्यूज चैनलों के सर्वे में कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा के नतीजों आने का अनुमान बताया गया है. ऐसे में देवगौड़ा की पार्टी जेडीएस किंग मेकर साबित हो सकती है क्योंकि सरकार बनाने के लिए किसी भी दल को जेडीएस का ही सहारा लेना पड़ेगा.

ये भी पढ़ें- जिन्ना के विरोध में जामिया मिलिया इस्लामिया में लगे नारे, माहौल गरमाया

First published: 9 May 2018, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी