Home » राज्य » Kerala high court has cancelled the marriage by a qazi
 

मुसलमान बनकर शादी करने वाली हिंदू महिला का निकाह अवैध करार

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2017, 13:22 IST
marriage

केरल हाई कोर्ट की बेंच ने बुधवार (24 मई) को मुसलमान बनकर शादी करने वाली हिंदू महिला का निकाह अवैध करार दिया है. जस्टिस सुरेंद्र मोहन और जस्टिस अब्राहम मैथ्यू की पीठ ने अखिला के पिता केएम अशोकन की याचिका पर सुनवाई करते हुए ये फैसला दिया.

लड़की केरल के कोट्टयम जिले के वाइकॉम की रहने वाली है. याचिकाकर्ता केएम अशोकन ने अपनी याचिका में अदालत से कहा कि उनकी बेटी को आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट में शामिल कराने के लिए सोचीसमझी साजिश के तहत मुसलमान बनवाया गया.

माना जा रहा है कि केरल से कुछ युवा आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के लिए काम कर रहे हैं. इन लापता नौजवानों में कई हाल-फिलहाल दूसरें धर्मों से परिवर्तन करके मुसलमान बने हैं. अदालत ने अखिला शादी को अवैध घोषित करते हुए अपने फैसले में कहा, "शादी उसके जीवन का सबसे अहम फैसला है और उसे इसमें अपने माता-पिता की सलाह लेनी चाहिए थी."

अदालत ने फैसले में कहा, "कथित तौर पर हुई शादी बकवास है और कानून की नजर में इसकी कोई अहमियत नहीं है. उसके शौहर को उसका अभिभावक बनने का कोई अधिकार नहीं है."

अदालत ने अशोकन को उनकी बेटी अखिला को सुरक्षा देने के लिए कोट्टयम जिला पुलिस को निर्देश दिया. अदालत के आदेश पर महिला छात्रावास में रह रही अखिला अब अपने पिता अशोकन के साथ रहेगी. अदालत ने पुलिस को मामले की जांच के भी आदेश दिए हैं.

कोर्ट ने पुलिस से जबरन धर्मांतरण और इसके लिए जिम्मेदार संस्थाओं की जांच के लिए कहा है. अखिला ने अदालत में कहा था कि उसने अपनी मर्जी से मुस्लिम धर्म स्वीकार किया है. अखिला के मुसलमान बन जाने के बाद अशोकन ने पिछले साल अदालत में याचिका दायर की थी.

अशोकन की याचिका पर सुनवाई के दौरान ही अखिला ने शफीन जहां से पिछले साल 19 दिसंबर को निकाह कर लिया था. जिसे अब कोर्ट ने अवैध करार दिया है.

First published: 25 May 2017, 13:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी