Home » राज्य » Coronavirus: महाराष्ट्र ने केरल से मांगे डॉक्टर और नर्स, बताया कितनी दी जाएगी सैलरी
 

Coronavirus: महाराष्ट्र में 50,000 से ज्यादा मामले, केरल से की डॉक्टरों और नर्सों की मांग

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2020, 14:27 IST

Coronavirus : महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामले 50 हजार के पार चले गए हैं. बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र ने केरल से 50 विशेषज्ञ डॉक्टरों और 100 नर्सों की मांग की है. केरल जहां भारत के पहले तीन कोरोना वायरस मामले सामने आये थे, वह इस पर नियंत्रण करने में कामयाब रहा है. दक्षिणी राज्य में 847 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 521 मरीजों को उपचार मिलने के बाद छुट्टी दे दी गई. राज्य में अब तक केवल चार मौतें दर्ज की गई हैं.

महाराष्ट्र में 50,000 से अधिक कोरोना वायरस मामले हैं. महाराष्ट्र के लगभग 61 फीसदी मामले मुंबई में हैं. महाराष्ट्र के महाराष्ट्र चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान निदेशालय (DMER) डॉ. टीपी लहाणे ने 23 मई को केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा को पत्र लिखकर 50 विशेषज्ञ डॉक्टरों और 100 नर्सों के लिए अनुरोध किया है.


एक पत्र उन्होंने लिखा "वर्तमान में डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ अपनी पूरी क्षमता से काम कर रहे हैं. सरकार ने शहर में निजी चिकित्सकों की सेवाएं भी उपलब्ध कराई हैं. हालांकि हमें दो शहरों मुंबई और पुणे में कोविड-19 रोगियों के प्रबंधन के लिए और अधिक डॉक्टरों की आवश्यकता है.”

पत्र में यह भी कहा गया है कि राज्य सरकार एमबीबीएस डॉक्टरों के लिए 80,000 रुपये प्रति माह, एमडी या एमएस विशेषज्ञों के लिए 2 लाख रुपये प्रति माह और प्रशिक्षित नर्सिंग स्टाफ के लिए 30,000 रुपये प्रति माह का भुगतान करेगी.  कहा गया है "राज्य सरकार डॉक्टरों और नर्सों को भोजन भी प्रदान करेगी. यह राज्य सरकार की जिम्मेदारी होगी कि वह उन्हें दवा और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण प्रदान करे."

पत्र में कहा गया है कि मुंबई के महालक्ष्मी रेस कोर्स में 600 बेड का कोरोना वायरस वायरस सेंटर स्थापित किया जा रहा है. लहाणे ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स के दक्षिण एशिया डिवीजन से भी इसी तरह का अनुरोध किया है, जिन्होंने अतिरिक्त श्रमशक्ति का आश्वासन दिया है.

कोरोना वायरस: अभी महाराष्ट्र से फ्लाइट की उड़ानें नहीं चाहते CM ठाकरे, विमानन मंत्री से कही ये बातCoronavirus: 24 घंटे में आये 6,977 नए मामले, भारत दुनिया के 10 सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में

First published: 25 May 2020, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी