Home » राज्य » Manipur Election Result Live 2017: BJP facing strong fight against congress
 

मणिपुर में कांग्रेस बहुमत से तीन सीट दूर, इबोबी सिंह बचा सकते हैं कुर्सी

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 March 2017, 9:56 IST

मणिपुर विधानसभा की 60 सीटों के चुनाव परिणाम सामने आ चुके हैं. यहां 15 साल से शासन कर रही कांग्रेस पार्टी इस चुनाव में भी बड़ी पार्टी बनकर उभरी है. उसे 28 सीटों पर जीत हासिल हुई है. भाजपा ने मणिपुर में ऊंची छलांग लगाते हुए 21 सीटों पर जीत दर्ज की है. हालांकि बहुमत के आंकड़े (31) से दोनों पार्टियां दूर हैं. ऐसे में एक बार फिर यहां जोड़तोड़ और खरीद-फरोख्त की संभावना बढ़ गई है. सरकार की चाबी नागा पीपुल्स फ्रंट और नेशनल पीपुल्स पार्टी जैसे दलों के हाथ में है जिन्हें 4-4 सीटों पर जीत हासिल हुई है. एक-एक सीट टीएमसी और लोकजनशक्ति पार्टी के खाते में गई है.

वहीं 35 सीटों के रुझान में से 16 सीटों पर भाजपा और 12 सीटों पर कांग्रेस आगे चल रही है. इसके अलावा 7 सीटों पर अन्य दलों के प्रत्याशी बढ़त बनाए हुए हैं. कांग्रेस के कद्दावर नेता और मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह थोबल सीट से जीत दर्ज कर चुके हैं. वहीं उनके सामने पहली बार चुनाव मैदान में उतरीं आयरन लेडी इरोम शर्मिला को महज़ 85 वोट मिले हैं. इस सीट पर इबोबी सिंह को 16290 वोट मिले हैं जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंदि को 7611 वोटों के साथ संतोष करना पड़ा है.

आयरन लेडी के नाम से मशहूर इरोम शर्मिला ने सशस्त्र बल विशेषाधिकार अधिनियम (अफस्पा) को ख़त्म करने के लिए 16 साल तक भूख हड़ताल की थी. मगर उन्होंने पिछले साल अगस्त में अपनी भूख हड़ताल खत्म करते हुए राजनीति में जाने का इशारा कर दिया था. अक्टूबर, 2016 में इरोम शर्मिला ने पीपल्स रीसर्जेंस एंड जस्टिस एलांयस (पीआरजेए) की बुनियाद रखी और मार्च में होने वाले विधानसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया था. मगर चुनाव में मिली क़रारी हार उन्हें हताश करने वाली है. .

वहीं इबोबी सिंह राज्य के ताक़तवर और शातिर नेता माने जाते हैं. भाजपा ने उन्हें चित करने के लिए एड़ी-चोटी का ज़ोर लगा दिया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समेत बड़े नेताओं ने उनके खिलाफ़ प्रचार किया था. बावजूद इसके, वोटों की गिनती बता रही है कि इबोबी के ख़िलाफ़ वैसा माहौल नहीं बन पाया, जैसा कि भाजपा को उम्मीद थी.

इससे पहले इबोबी सिंह 2002, 2007 और 2012 में मणिपुर के मुख्यमंत्री रह चुके हैं और अब उनकी निगाहें चौथी बार जीत हासिल करने पर है.

First published: 11 March 2017, 13:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी