Home » राज्य » Nipah Virus Attack in Kozhikode Kerla 9 People died and 6 is critical condition
 

केरल में फैला खतरनाक 'अनजान' वायरस, निगल गया है 9 लोगों की जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 May 2018, 11:46 IST

केरल में एक खतरनाक वायरस ने 9 लोगों की जान ले ली. मरने वालों में एक ही परिवार के चार लोग शामिल है. चार लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है. वहीं इस खतरनाक वायरस की चपेट में आने से 25 लोगों को निगरानी में रखा गया है. वहीं पुणे की वायरोलॉजी इस्टीट्यूट में लिए गए ब्लड के तीन सैंपल में 'निपाह' वायरस होने की पुष्टि हुई है. केरल सरकार ने हालात से निपटने के लिए केंद्र से तत्काल मदद मुहैया कराने की गुहार लगाई है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने एनसीडीसी की टीम को तुरंत केरल का दौरा करने का आदेश दिया है. अब नेशनल सेंटर फॉर डीसीज कंट्रोल (NCDC) की टीम केरल में 'निपाह' वायरस प्रभावित इलाकों का दौरा करेगी. वहीं इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने इस संबंध में एक कमेटी गठित की है. जो बीमारी की तह तक जाने में जुटी है. IMA की टीम निपाह वायरस से लोगों की बचाने की पूरी कोशिश करेगी.

कैसा फैलता है निपाह वायरस?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, निपाह वायरस फैलने की मुख्य वजह चमगादड़ है. ये वायरस चमगादड़ों से फलों में फैलता है. उसके बाद फलों द्वारा ये वायरस इंसानों तक पहुंच जाता है. इसके अलावा ये वायरस जानवरों को भी अपनी चपेट में ले लेता है. बता दें कि पहली बार 1998 में मलेशिया के कांपुंग सुंगई निपाह में इसके कई मामले सामने आए थे. इसी वजह से इस वायरस को निपाह नाम दिया गया. निपाह वायरस का सबसे पहले असर सूअरों में देखा गया था.

वहीं साल 2004 में निपाह वायरस का बांग्लादेश में भी प्रकोप फैला था. ऐसा माना जा रहा है कि निपाह वायरस केरल में पहलीबार फैला है.

ये होते हैं निपाह वायरस पीड़ित में लक्षण

निपाह वायरस से पीड़ित इंसान में सबसे पहले सांस लेने संबंधी दिक्कतें आने लगती है. उसके बाद इंसान के दिमाग में जलन महसूस होने लगती है. वहीं अगर समय रहते इंसान का इलाज ना कराया जाए तो मौत निश्चित है.

अभी नहीं बनी निपाह वायरस की वैक्सीन

बताया जा रहा है कि खतरनाक निपाह वायरस की अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बनी है. जिससे इस वायरस से पहले से बचाव किया जा सके. हालांकि कुछ सावधानियां बरतकर निपाह वायरस की चपेट में आने से बचा जा सकता है. निपाह वायरस से पीड़ित व्यक्ति का आईसीयू में इलाज करना होता है.

निपाह वायरस से बचने के लिए बरतें ये सावधानी

निपाह वायरस इंसानों में फलों से फैलने वाला खतरनाक वायरस है. इसलिए फल खाने से परहेज करें. खासकत खजूर ना खाएं तो बेहतर है. ऐसे में पेड़ से गिरे फलों को खाने से बचना चाहिए. वहीं सूअर और दूसरे बीमार जानवरों से दूरी बनाकर रखना चाहिए. फलों को खाने से पहले अच्छी तरह धोकर खाना सही माना जाता है.

 ये भी पढ़ें- मोदी सरकार में पेट्रोल-डीजल ने तोड़े महंगाई के सारे रिकॉर्ड, मनमोहन सरकार को भी छोड़ा पीछे

First published: 21 May 2018, 11:46 IST
 
अगली कहानी