Home » राज्य » NSCN(IM) says not merge with India but work with to together
 

अब इस संगठन ने कहा- भारत में नहीं होंगे विलय लेकिन मिलकर काम करने को तैयार

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 September 2019, 13:14 IST

नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड (इसाक-मुइवा) ने बुधवार को कहा कि नागा समुदाय का भारत संघ में विलय नहीं होगा, लेकिन दो संस्थाओं के रूप में भारत के साथ मिलकर काम करेंगे. मॉर्गन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार नागाओं ने भारत-नागा राजनीतिक समस्या के समाधान के लिए "अवसर का लाभ उठाने का भी आह्वान किया और कहा कि इस तरह के समाधान के लिए हर संभव तरीके का पता लगाया जाना चाहिए. रिपोर्ट के अनुसार एनएससीएन ने राज्यपाल रवि के साथ मतभेदों के बाद यह कदम उठाया है. बातचीत में रवि ने प्रदेश के 7 अन्य नगा विद्रोही समूहों को शामिल करने को कहा था. जिससे एनएससीएन नाराज था.

 

एनएससीएन (आईएम) की एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा "नागा भारतीय संघ में विलय नहीं करेंगे लेकिन वे भारत संघ के साथ दो संस्थाओं के रूप में मिलेंगे. नागा एक मान्यता प्राप्त संस्था है. नागा भारतीय संविधान को स्वीकार नहीं करते हैं लेकिन नागा और भारतीय दक्षताओं के आधार पर संप्रभु शक्तियों को साझा करेंगे.” भारत सरकार ने 1997 में NSCN (IM) के साथ युद्धविराम समझौते पर हस्ताक्षर किए थे.

2015 में केंद्र और विद्रोही समूह ने एक समाधान के लिए बातचीत शुरू की. हालांकि असम राइफल्स और भारतीय सेना की एक संयुक्त टीम ने अरुणाचल प्रदेश के मोटोंगसा गांव में एक ऑपरेशन के दौरान जून 2018 में तीन एनएससीएन (आईएम) शिविरों को नष्ट कर दिया था. पिछले साल जुलाई में केंद्र ने एक संसदीय पैनल को सूचित किया कि उसने विद्रोही समूह के साथ एक फ्रेमवर्क समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.

मोदी सरकार का बनाया मोटर वीकल एक्ट नहीं फॉलो कर रहे ये BJP शासित राज्य, क्या बोले गडकरी ?

First published: 12 September 2019, 12:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी