Home » राज्य » Odisha farmer beheads his nephew for good harvest in Nuapada district
 

अंधविश्वास के चक्कर में किसान ने कर दी भतीजे की हत्या, अच्छी फसल के लिए उतारा मौत के घाट

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 June 2019, 10:11 IST

इंसान आज भले ही मंगल और चांद पर पहुंच गया हो, या फिर विज्ञान के क्षेत्र में तमाम तरक्की हासिल कर ली हो, लेकिन कुछ लोग आज भी तमाम अंधविश्वासों के साथ जीते हैं. अंधविश्वास का ऐसा ही एक मामला ओडिशा के नौपाड़ा जिले में सामने आया है. जहां एक किसान ने अपने भतीजे को मौत के घाट उतार दिया. किसान भतीजे की बलि देकर अच्छी फसल की कामना कर रहा था. इसी अंधविश्वास के चलते किसान ने अपने मासूम भतीजे की हत्या कर दी.

मामला नौपाड़ा जिले के जडामुंडा गांव का है. जहां एक किसान बारिश के महीने में अपने खेतों में अच्छी फसल की कामना कर रहा था, इसी कामना के चलते उसने अपने 12 साल के भतीजे की बलि दे दी. घटना के बाद पुलिस ने 48 साल के आरोपी किसान चिंतामणि माझी को गिरफ्तार कर लिया. रविवार को उसे कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

पुलिस के मुताबिक, शनिवार सुबह आरोपी चिंतामणि माझी अपने बड़े भतीजे देबार्चन के साथ खेत में काम कर रहा था. सुबह करीब साढ़े नौ बजे उसका छोटा भतीजा धानसिंह खाना लेकर खेत पर पहुंचा था. करीब दस बजे चिंतामणि ने धानसिंह से दूसरे खेत में पेड़ काटने की बात कही. उसके बाद दोनों चाचा भतीजे दूसरे खेत पर चले गए. जहां चिंतामणि ने धानसिंह का सिर धड़ से अलग कर दिया.

धानसिंह के चीखने की आवाज सुन चिंतामणि का बड़ा भतीजा देबार्चन मौके पर पहुंच गया और भाई का कटा हुआ सिर देखकर हैरान रह गयाशोर मचाने पर तमाम ग्रामीण मौके पर पहुंच गए और उन्होंने आरोपी को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. पुलिस पूछताछ में चिंतामणि ने अपना जुर्म मान लिया. पुलिस के मुताबिक, इस इलाके में बेहतर फसल के लिए आदिवासी लोग अक्सर बलि देते है. जिसमें जानवर या कोई पक्षी शामिल होता है, लेकिन नर बलि देने का मामला पहली बार सामने आया है.

First published: 10 June 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी