Home » राज्य » postcard news founder and editor mahesh hegde arrested by bengaluru police to post fake news in website
 

'फ़ेक न्यूज़' के आरोप में पोस्टकार्ड न्यूज के एडिटर गिरफ़्तार, भाजपा बचाव में उतरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 March 2018, 10:51 IST

फेक न्यूज मामले में कर्नाटक पुलिस ने  'पोस्ट कार्ड न्यूज़' वेबसाइट के संस्थापक और एडिटर महेश हेगड़े को गिरफ्तार कर लिया है. महेश हेगड़े पर फर्जी खबर छापकर दो समुदायों के बीच नफरत फैलाने का आरोप है. पुलिस महेश के दो सहयोगियों की भी तलाश कर रही है.

हेगड़े की वेबसाइट 'पोस्ट कार्ड न्यूज़' ने 11 मार्च को एक रिपोर्ट छापी थी. इस रिपोर्ट में जैन मुनि श्री उपाध्याय मयंक सागर जी महाराज पर हमले की खबर थी. इस रिपोर्ट में बताया गया था कि एक मुस्लिम शख़्स ने ये हमला किया है. लेकिन ये खबर झूठी थी. 

दरअसल जैन मुनि के वाहन को एक बाइक ने पीछे से उनकी गाड़ी में टक्कर मारी थी. इसकी वजह से जैन मुनि और उनका अनुयायी नीचे गिर गए और उन्हें चोटें आईं थी. अस्पताल में उनके इलाज के दौरान की उनकी तस्वीर का इस्तेमाल इस खबर में किया गया.

आरोपी महेश विक्रम हेगड़े को गिरफ्तार करने के बाद मजिस्ट्रेट  के सामने पेश किया गया. कोर्ट ने महेश हेगड़े पर आईपीसी की सेक्शन 153 ए(समुदायों के बीच नफ़रत फैलाना), 120 बी(साज़िश), और 34 (एक ही मंशा से कई लोगों द्वारा किया गया जुर्म) के तहत न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. इसके साथ ही आईटी एक्ट के सेक्शन 66 में भी उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

गौरतलब है कि इस वेबसाइट पर कई बार फर्जी खबरों चलाने के आरोप लगे है. आपको जानकर हैरानी होगी कि महेश हेगड़े को ट्विटर पर खुद पीएम मोदी भी फॉलो करते हैं. इसका जिक्र भी महेश हेगड़े ने अपनी प्रोफाइल में किया है. ट्विटर पर महेश हेगड़े का स्टेटस है, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फॉलो करने से मैं धन्य हुआ."

इस खबर के सामने आने के बाद कई भाजपा नेताओं ने इनके पक्ष में बोलना शुरू कर दिया है. केंद्रीय राज्य मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने अपने ट्वीट में लिखा है, "सिद्धारमैया सरकार को शर्म आनी चाहिए जो महेश हेगड़े को गिरफ़्तार कर तानाशाह जैसा बर्ताव कर रही है. बुज़दिलों जैसे कदम उठाने की बजाए हमसे लोकतांत्रिक तरीके से लड़िए".

महेश हेगड़े की गिरफ्तारी के बाद सोशल मीडिया पर भाजपा नेताओं ने #ReleaseMaheshHegde हैशटैग से अभियान शुरू कर दिया है. ये अभियान उनकी रिहाई के लिए शुरू किया गया है

 

First published: 30 March 2018, 10:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी