Home » राज्य » Proposed Jat agitation postponed after talks with Haryana CM Manohar Lal Khattar & Jat leader Yashpal
 

सोमवार को दिल्ली कूच नहीं करेंगे जाट, सरकार के साथ वार्ता के बाद लिया फैसला

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 March 2017, 19:26 IST
(एएनआई)

हरियाणा से शुरू हुए जाट आरक्षण की मांग को लेकर सोमवार को दिल्ली में संसद का घेराव करने की घोषणा के बाद रविवार को आंदोलनकारियों और सरकार के बीच समझौता हो गया. इसके बाद फिलहाल जाटों ने संसद भवन घेराव का कार्यक्रम टाल दिया है.

हरियाणा की मनोहर खट्टर सरकार पर मांगें न मानने का आरोप लगाने वाली ऑल इंडिया जाट आरक्षण संघर्ष समिति के पदाधिकारियों का कहना है कि अब सरकार के साथ उनकी सहमति बन गई है और संसद घेराव कार्यक्रम निरस्त कर दिया गया.

 

रविवार को दिल्ली स्थित हरियाणा भवन में हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर और जाट नेता यशपाल द्वारा संयुक्त रूप से समझौता होने की घोषणा की गई. संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में दोनों ने कहा कि जाट आंदोलनकारियों की पांच मांगों पर सहमति हो गई है.

वहीं, मुख्यमंत्री ने लोगों से शांति और सद्भाव बनाए रखने की अपील की. इस दौरान केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह और केंद्रीय न्याय एवं कानून राज्य मंत्री पीपी चौधरी भी वहां मौजूद थे.

 

इससे पहले दिल्ली जाकर प्रदर्शन करने की घोषणा करने वाले जाटों के आंदोलन के चलते हरियाणा सरकार ने समस्त संवेदनशील स्थानों पर धारा 144 लगा दी थी. इसके साथ ही सरकार ने सेना को भी तैनात कर दिया था.

इतना ही नहीं सरकार द्वारा हरियाणा के कई जिलों में इंटरनेट भी बंद कर दिया गया था. सरकार ने आंदोलनकारियों को सख्त हिदायत दी थी कि प्रदर्शन के दौरान रेल और सड़क मार्ग बाधित नहीं होना चाहिए. हुड़दंगियों से सरकार सख्ती से निपटी जाएगी.

 

इधर, राजधानी दिल्ली में भी सोमवार को संभावित किसी अप्रिय घटना से निपटने के लिए धारा 144 लागू कर दी गई. इसके बाद राजधानी के सभी प्रवेश मार्गों पर बैरिकेडिंग कर दी गई और अन्य प्रदेशों से आने वाले लोगों को पहचान पत्र दिखाकर ही प्रवेश दिया जा रहा था.

वहीं, रविवार रात के बाद तमाम मेट्रो स्टेशनों को बंद किए जाने की भी घोषणा कर दी गई थी. जबकि सोमवार को यूपी और हरियाणा मेट्रो को भी बंद करने की घोषणा की गई थी.

हालांकि समझौते के बाद हरियाणा में इंटरनेट सेवा बहाल कर दी गई और रद ट्रेनों को कल से चलाने की घोषणा कर दी गई.

First published: 19 March 2017, 19:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी