Home » राज्य » Punjab: 37 farmers committed suicide in two months
 

पंजाब में 2 महीने में 37 किसानों ने ख़ुदकुशी की

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 May 2017, 17:30 IST

पंजाब में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद से राज्य में कम से कम 37 किसान और खेती से जुड़े लोगों ने ख़ुदकुशी कर ली है. ख़ुदकुशी करने वाले ज़्यादातर किसान कर्ज़ में डूबे हुए थे और इस कुचक्र ने निकलने की उम्मीद खो चुके थे. अंग्रेज़ी अख़बार टाइम्स ऑफ इंडिया ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि पंजाब में 16 मार्च को सरकार बनने के बाद से अभी तक 37 किसान खुदकुशी कर चुके हैं.

किसानों की ख़ुदकुशी से सबसे ज़्यादा प्रभावित होने वाले इलाक़ों में मानसा, बठिंडा और बरनाला हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इन दो महीनों में बठिंडा में 8 और बरनाला में 6 किसानों ने आत्महत्या की है. वहीं पंजाब के तीन विश्वविद्यालयों के एक अध्ययन के मुताबिक राज्य में 2000 से 2010 के बीच कुल 6,926 लोग मौत को गले लगा चुके हैं. इनमें से 3,954 किसान और 2,972 खेती से जुड़े मजदूर थे.

पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों से अपील की थी कि वे ख़ुदकुशी न करें. उन्होंने नारा दिया था, "कर्ज कुर्की खत्म, फसल दी पूरी रकम." मगर सीएम का पद संभालने के बावजूद ख़ुदकुशी करने वाले किसानों का सिलसिला थमा नहीं है. उम्मीद की जा रही है कि आगामी 15 जून को पेश होने वाले बजट में किसानों की क़र्ज़माफ़ी का एलान हो सकता है.

First published: 18 May 2017, 17:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी