Home » राज्य » Ramdev Patanjali going to operate two residential Sanskrit schools in Uttarakhand
 

उत्तराखंड: सरकार द्वारा स्थापित दो नए संस्कृत विद्यालयों को संभालेंगे रामदेव

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 June 2018, 16:23 IST

संस्कृत भाषा और भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए, उत्तराखंड सरकार राज्य में दो आवासीय संस्कृत स्कूल स्थापित करेगी और उसका सामान्य प्रबंधन पतंजलि विद्यापिठ को सौंप देगी. सोमवार को राज्य सचिवालय में राज्य शिक्षा मंत्री सह संस्कृत शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे और पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण के बीच हुई एक बैठक में इस संबंध में एक निर्णय लिया गया. इसके बाद ही राज्य में अब छह आवासीय संस्कृत स्कूल हो जाएंगे.

बैठक के तुरंत बाद शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि एक हजार की क्षमता वाले इन आवासीय विद्यालयों में से एक पौड़ी और दूसरा रुद्रपुर में खोला जाएगा. मंत्री ने कहा कि सरकार ने रुद्रपुर के एन झा इंटर कॉलेज को संस्कृत आवासीय विद्यालय में रहने के लिए निर्धारित किया है, जबकि पौड़ी में अब तक जमीन चुनी गई है. इसके लिए राज्य सरकार जमीन भी देगी और इन स्कूलों का निर्माण भी करेगी. इसके अलाव इन स्कूलों में पहले क्लास से आचार्य (एमए के समतुल्य) की शिक्षा दी जाएगी.

ये भी पढ़ें-कम कीमत में Royal Enfield का मजा देगी ये नई बाइक, लुक भी एकदम बुलेट जैसा

सोमवार को शिक्षा मंत्री ने राज्य सचिवालय में शिक्षा विभाग की एक समीक्षा बैठक आयोजित की. इस बैठक के दौरान यह निर्णय लिया गया कि राजीव गांधी नवोदय विद्यालयों की स्थिति में सुधार करने पर अधिक ध्यान दिया जाएगा. उन्होंने साथ में यह भी कहा कि इन स्कूलों में 60 प्रतिशत सीटें सरकारी स्कूलों के छात्रों के लिए आरक्षित की जानी चाहिए.

उन्होंने आगे कहा कि यह निर्णय लिया गया है कि आरक्षण का लाभ उठाने के लिए एक छात्र को प्राथमिक विद्यालय में कम से कम तीन वर्षों का अध्ययन करना चाहिए था.

First published: 26 June 2018, 13:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी