Home » राज्य » RBI directs Mumbai based City Co-operative bank to restrict withdrawals to rs 1000 per account
 

RBI की पाबंदी, इस बैंक से 1000 रुपये से ज्यादा नहीं निकाल पाएंगे ग्राहक

न्यूज एजेंसी | Updated on: 20 April 2018, 13:48 IST

देश के लगभग छह राज्यों में चल रही कैश की किल्लत की वजह से लोगों को लगातार कैश संकट का सामना करना पड़ रहा है. इस बीच RBI ने इस बैंक के ग्राहकों को एक और बड़ा झटका दे दिया है. यह बैंक मुंबई स्थित सिटी को-ऑपरेटिव बैंक है. आरबीआई ने मुंबई स्थित सिटी को-ऑपरेटिव बैंक को निर्देश दिया है की को-ऑपरेटिव बैंक में जिस भी उपभोक्ता का खाता वहां है से 1000 रुपये से अधिक नहीं निकाल सकता है.

RBI ने यह भी निर्देश दिए-

RBI ने बैंक को यह भी निर्देश दिया है. कि बैंक नए डिपाजिट, लोन देने, इन्वेस्टमेंट या किसी से फंड उधार लेने के लिए भी पहले किसी केंद्रीय बैंक से इजाजत लेगा. और इस तरह रिजर्व बैंक इस बैंक के वित्तीय स्थिति पर निगरानी कर रहा है.

ये भी पढ़ें-अगर आपकी ट्रेन है दो घंटे लेट तो रेलवे देगा यात्रियों को ये निशुल्क सुविधा

NPA है बड़ी वजह-

RBI के इस निर्देश के पीछे NPA एक बड़ी वजह मानी जा रही है. सिटी को-ऑपरेटिव बैंक की वेबसाइट के अनुसार मार्च 2016 में इसका डिपॉजिट बेस 534 करोड़ रुपये था और बैंक की तरफ से 363 करोड़ रुपये का लोन दे रखा है. बैंक की तरफ से दिए गए लोन का 8.84 प्रतिशत NPA था. सेंट्रल बैंक की तरफ से कहा गया कि बैंक की स्थिति को देखकर भविष्य में इस आदेश में बदलाव किया जा सकता है.

बैंक के चेयरमैन ने आश्चर्य जाहिर किया-

बैंक के चेयरमैन आनंदराव अडसूल ने इकोनॉमिक टाइम्स से बातचीत में आरबीआई के आदेश पर आश्चर्य जाहिर किया. उन्होंने कहा कि बैंक की सारस्वत बैंक से मर्जिंग के सिलसिले में बातचीत चल रही थी. अडसूल ने कहा कि पिछले तीन महीने से हमारी सारस्वत बैंक के साथ बातचीत चल रही है और हमने मर्जर के लिए एक प्रपोजल तैयार किया है. इसके अलावा इस बारे में हमारी आरबीआई से भी बातचीत चल रही है. आपको बता दें कि मुंबई को-ऑपरेटिव बैंक की कुल 10 ब्रांच है. जिसमें कुल 91 हजार ग्राहकों के खाते हैं.

ये भी पढ़ें-जनधन योजना के बावजूद भारत में अब भी 19 करोड़ युवाओं के पास बैंक खाते नहीं : वर्ल्ड बैंक

First published: 20 April 2018, 13:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी