Home » राज्य » Sangrur two year old Fatehveer Singh rescued after 109 hour from 125 feet Bore well
 

125 फीट गहरे बोरवेल में फंसा मासूम हार गया जिंदगी की जंग, 109 घंटे तक मौत को देता रहा मात

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2019, 9:29 IST

पंजाब के संगरूर में बोरवेल में फंसे दो साल के मासूम बच्चे को कड़ी मेहनत के बाद जिंदा निकाल लिया गया. हालांकि कुछ ही देर बाद बच्चे ने दम तोड़ दिया. फतेहवीर सिंह नाम का ये बच्ची करीब 109 घंटे तक बोलवेल में फंसा रहा. फतेहवीर सिंह को मंगलवार सुबह करीब सवा पांच बजे बोलवेल से निकाल लिया गया.

जहां से उसे सीधा बठिंडा अस्पताल ले जाया गया. लेकिन बच्चे ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. बच्चे को बचाने के लिए एनडीआरएफ और पुलिस ने 109 घंटे लंबा रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया, लेकिन हर किसी की कोशिश नाकाम हो गई और फतेहवीर सिंह इस दुनिया को हमेशा-हमेशा के लिए अलविदा कह गया.

दो साल का फतेहवीर सिंह गुरुवार शाम करीब चार बचे खेलते वक्त 125 फीट गहरे बोरवेल में गिर गया था. बच्चे की बोरवेल में गिरने की सूचना मिलते ही एनडीआरएफ की टीम ने बचाव अभियान शुरु किया. एनडीआरएफ ने बच्चे को बचाने के लिए बोरवेल के पास एक टनल खोदी. मंगलवार की सुबह बच्चे को निकाल लिया गया. जहां से उसे सीधा अस्पताल भेजा गया लेकिन इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

बच्चे को बचाने के लिए हर कोशिश की गई. सांस लेने में कोई दिक्कत ना हो इसके लिए बोरवेल में ऑक्सीजन की सप्लाई दी गई थी. इसके अलावा बच्चे पर नजर रखने के लिए एक कैमरा भी लगाया गया था. इस बचाव दल में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) के 26 जवानों ने कड़ी मेहनत की जिससे कि फतेहवीर को बचाया जा सके.

घटनास्थल पर चौबीसों घंटे डॉक्टरों की टीम और एंबुलेंस को तैनात किया गया था. जिससे बोरवेल में फंसा बच्चे को किसी भी समय बाहर निकालने के बाद तुरंत मेडिकल सुविधा दी जा सके. घटना के लगभग 40 घंटे बाद शनिवार सुबह पांच बजे उसके शरीर में हलचल देखी गई. लेकिन बोरवेलल से बाहर निकालने के बाद फतेहवीर ने दम तोड़ दिया. सोमवार यानि 10 जून को ही फतेहवीर सिंह दो साल का हुआ था.

अंधविश्वास के चक्कर में किसान ने कर दी भतीजे की हत्या, अच्छी फसल के लिए उतारा मौत के घाट

First published: 11 June 2019, 9:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी