Home » राज्य » Sheena Bora murder case- Bombay HC rules Investigating Officers's deposition about disclosures made by driver Shyamvar Rai aren't admissible
 

बॉम्बे हाईकोर्ट: शीना बोरा हत्याकांड में ड्राइवर श्यामवर राय का कबूलनामा सबूत नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 May 2017, 16:14 IST

शीना बोरा हत्याकांड में बॉम्बे हाईकोर्ट ने आज ड्राइवर श्यामवर राय के कबूलनामे को साक्ष्य मानने से इनकार कर दिया है. बॉम्बे हाईकोर्ट इस केस के आरोपी इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी की याचिका पर सुनवाई कर रहा था.

हाईकोर्ट ने ट्रायल कोर्ट को  इस केस में सुनवाई शुरू करने के आदेश दिए हैं. कोर्ट ने जांच अधिकारी द्वारा इन दोनों के खिलाफ ड्राइवर की गवाही को सबूत के तौर पर पेश किया है. सीबीआई ने इन दोनों के खिलाफ जांच में इस अधिकारी से भी पूछताछ की थी और ड्राइवर के कबूलनामे को मुख्य साक्ष्य माना है.

क्या है मामला

24 अप्रैल 2012 को हुआ हाईप्रोफाइल शीना बोरा मर्डर केस 2015 में तब सामने आया, जब मामले के मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी के ड्राइवर श्यामवर राय की गिरफ्तारी हुई. अवैध हथियार रखने के आरोप में खार पुलिस ने श्यामवर राय को गिरफ्तार किया. लेकिन मुंबई पुलिस ने दावा किया कि उसने ड्राइवर  श्यामवर राय गिरफ्तारी के बाद इंद्राणी की बेटी शीना बोरा (24) की हत्या का खुलासा किया.

इसके बाद पुलिस ने इंद्राणी और उनके पूर्व पति संजीव खन्ना के साथ श्यामवर के खिलाफ मामला दर्ज किया. इसके बाद खार पुलिस से यह मामला सीबीआई ने ले लिया और इंद्राणी के पति पीटर को भी गिरफ्तार कर लिया. 

First published: 3 May 2017, 16:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी