Home » राज्य » Stampede at Gangasagar in West Bengal, 6 killed during makar sankranti fair
 

बंगाल: गंगासागर में मकर संक्रांति स्नान के दौरान 6 की मौत, सरकार ने कहा भगदड़ नहीं है

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 January 2017, 19:42 IST
(एएनआई)

पश्चिम बंगाल स्थित गंगासागर में रविवार को आयोजित एक मेले में भगदड़ मचने से 6 लोगों की जान चली गई जबकि 15 से ज्यादा लोग घायल हो गए. तीन की हालत काफी गंभीर बनी हुई है.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक गंगासागर मेले के दौरान यह भगदड़ 24 परगना इलाके से केवल पांच किलोमीटर दूर कचुबेरिया इलाके में जेटी संख्या पांच पर हुई. यह भगदड़ उस वक्त हुई जब लोग नाव पर सवार हो रहे थे. 

हर साल मकर संक्रांति पर आयोजित होने वाले इस मेले में इस दौरान 15 से ज्यादा लोगों के घायल होने की भी सूचना है. मेले में दुनिया के तमाम हिस्सों से हजारों श्रद्धालू शामिल होते हैं और गंगा में डुबकी लगाते हैं. मान्यता है कि मकर संक्रांति पर गंगासागर की यात्रा सैकड़ों तीर्थयात्राओं के समान है. 

बताया जा रहा है कि भगदड़ के दौरान गंगासागर से तृणमूल कांग्रेस के विधायक बंकिम हाजरा भी घायल हो गए, जिन्हें रुद्रनगर अस्पताल में भर्ती कराया गया. 

गौरतलब है कि 2010 में भी गंगासागर मेले में भगदड़ मच गई थी. उस वक्त 7 श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी और 12 घायल हो गए थे. 

वहीं, शनिवार को पटना के सबलपुर गंगा दियारा में मकर संक्रांति के मौके पर नाव पलटने से 25 लोगों की मौत हो गई थी. बताया जा रहा है कि अभी भी कई लोग लापता हैं.

भगदड़ नहीं हुई

अधिकारियों ने बताया कि यह घटना शाम छह बजे की है, जब कोलकाता जाने वाले पोत में चढ़ने के लिए भारी भीड़ इकट्ठा हो गयी थी. सभी मृतक बेहद बुजुर्ग थे और उनकी पहचान अभी की जानी है.

उन्होंने बताया कि नौसेना के गोताखोरों ने नदी में गिर कर डूब गए लोगों की तलाश शुरू कर दी है. प्रशासन को आशंका है कि भगदड़ के दौरान कुछ लोग बूढ़ी गंगा नदी में गिर गए हों.

राज्य के सुंदरबन विकास मंत्री मानतुराम पाखिरा ने पीटीआई-भाषा को बताया कि गंगासागर मेले से लौटने के बाद दक्षिण 24 परगना जिले में भीड़ घाट पर मौजूद पोत पर चढ़ने कोशिश कर रही थी जिस दौरान छह बुजुर्ग महिलाएं बीमार हो गईं और बाद में उनकी मौत हो गई.

उन्होंने बताया कि भारी भीड़ के चलते कुछ लोग बेहोश हो गए जबकि कई बीमार पड़ गए. उन्हें नजदीकी अस्थायी स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां छह बुजुर्ग महिलाओं की मौत हो गई.

पाखिरा ने कहा, ‘ये महिलाएं बहुत ज्यादा बुजुर्ग थीं. ज्यादातर 75 वर्ष से अधिक आयु की थीं और बेहद कमजोर थीं. उनकी मौत स्वाभाविक है. उनकी मौत की वजह हार्ट अटैक हो सकती है.’ बंगाल के दो मंत्रियों सुब्रत मुखर्जी और अरुप बिस्वास ने किसी भगदड़ से इनकार किया है.

First published: 15 January 2017, 19:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी