Home » राज्य » Supreme Court expresses concern over the death of lions in Gir forest in Gujarat, says its serious issue, government must find out the reaso
 

गुजरात: गिर में दो दर्जन शेरों की मौत के बाद सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य से पूछे ये सवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 October 2018, 14:55 IST
(file photo )

गुजरात के गिर वन्यजीव अभ्यारण्य इन दिनों शेरों की मौत को लेकर चर्चा में बना हुआ है. पिछले एक हफ्ते में गिर वन्यजीव अभ्यारण्य में शेरों की मौत का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है. हर कोई शेरों की मौत को लेकर परेशान है. एक हफ्ते के अंदर 20 से अधिक शेरों की मौत ने सबसे बड़ी परेशानी खड़ी कर दी है. शेरों की मौत को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने भी चिंता व्यक्त की है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार से सवाल पूछते हुए शेरों की मौत के कारण का पता लगाने के लिए कहा है.

एएनआई की खबर के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने गिर में पिछले एक हफ्ते में 20 से अधिक शेरों की मौत पर चिंता व्यक्त की है. इसके साथ ही केंद्र और राज्य सरकार से शेरों की मौत को लेकर सवाल पूछे हैं. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि शेरों की मौत का मामला बहुत ही गंभीर मुद्दा है. सरकार शेरों की मौत के कारण का पता लगाए. शेरों संरक्षित किया जाना जरूरी है.

आपको बता दें गुजरात का गिर वन्यजीव अभ्यारण्य सबसे पुराना अभ्यारण्य हैं. इस अभ्यारण्य में पैदा होने वाले शेरों को एशियाई शेर कहते हैं जो पूरी दुनिया में सिर्फ गिर राष्ट्रीय उद्यान में ही पैदा होते हैं. बताया जा रहा है कि शेरों की मौत का कारण कैनाइन डिस्टेंपर वायरस है. जिसके कारण शेरों की मौत हो रही है.

शेरों की देखरेख, स्कैनिंग और ट्रैकिंग के लिए वन विभाग ने 585 कर्मचारियों की टीम लगाया है. गुजरात वन विभाग ने सोमवार को जसाधर ऐनिमल केयर सेंटर में 11 शेरों की मौत की पुष्टि की है. संक्रमित शेरों के सेंपल को पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भेजे गए हैं. जहां प्रारंभिक रिपोर्ट में वायरस की पुष्टि हुई है.

First published: 3 October 2018, 14:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी