Home » राज्य » Suspected LTTE ammunition and explosives found during unearthed in Rameswaram
 

खुदाई के दौरान घर में मिला इतना गोला-बारूद कि पुलिस और गांववाले रह गए दंग

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 June 2018, 13:00 IST

तमिलनाडु के रामानाथपुरम जिले में पुलिस ने भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया है. ये हथियार और गोला-बारूद खुदाई के दौरान एक व्यक्ति को दिखाई दिए. जिसकी सूचना उसने तुरंत पुलिस को दी. माना जा रहा है कि ये विस्फोटक पदार्थ 1980 के समय के हैं. जिन्हें संभवतः लिब्रेशन टाइगर ऑफ तमिल ईलम (लिट्टे) ने यहां छिपाए होंगे.

ये विस्फोटक और हथियार रामेश्वरम द्वीप पर समुद्र किनारे बसे एंथोनियर पुराम गांव में एक शख्स के घर के पीछे मिले. जब वह शख्स घर के पीछे सेप्टी टैंक बनाने के लिए खुदाई कर रहा था. उसी दौरान उसे एक लोहे का बक्सा दिखाई दिखाई दिया. जब उसने बक्सा खोला तो हैरान रह गया. बक्से में भारी मात्रा में गोलियां रखी हुई थी. उसने बिना समय गंवाए पुलिस को पूरे मामले की जानकारी दी.बता दें कि इस शख्स का घर समुद्र से मात्रा 50 मीटर की दूर पर है.

सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और गोलियों को अपने कब्जे में ले लिया. उसके बाद जिले के एसपी ओमप्रकाश मीना ने हथियारोंं का पता लगाने के लिए ऑपरेशन शुरु किया. इस दौरान जब घर के आसपास खुदाई की गई तो यहां 20 बक्से और मिले. जिनमें कई तरह के गोला-बारूद और हथियार रखे हुए थे.

इन बक्सों में पुलिस को भारी मात्रा में डेटोनेटर और विस्फो भी मिले. एसपी के मुताबिक बरामद हथियारों में लाइट मशीन गन की गोलियां, मध्यम दर्जे की मशीन गन, ऑटोमैटिक राइफल सहित कई हथियार मिले हैं. पुलिस अधिकारियों के मुताबिक रात नौ बजे तक खुदाई के दौरान कुल 22 बक्से मिले. हर बक्से में लगभग 250 राउंड गोलियां थीं. जो लगभग दो दशक से जमीन में दबे हुए थे. इसलिए गोलियां और हथियार खराब हो गए हैं.

बता दें कि 1980 के दशक में लिट्टे आतंकी हथियारों की तस्करी के लिए समुद्र के रास्ते का प्रयोग करते थे. उस दौरान रामानाथपुरम का यह इलाका लिट्टे का गढ़ था. माना जा रहा है कि उसी दौरान लिट्टे आतंकियों ने इन हथियारों को यहां छिपाया होगा.

ये भी पढ़ें- भारत को लेकर विदेशी निवेशकों का आकर्षण पहुंचा सबसे निचले स्तर पर, ये रही वजह

First published: 26 June 2018, 13:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी