Home » राज्य » Tripura CM Biplab Deb says Diana Hayden doesn’t Indian beauty, Women started using cosmetics after win international beauty award
 

अब CM बिप्लब देव ने महिलाओं की खूबसूरती पर दिया नया ज्ञान, बताया कौन है इसके पीछे

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 April 2018, 22:09 IST

महाभारत काल में इंटरनेट उपलब्ध होने का दावा कर विवादों में आ चुके त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देव एक बार फिर से अपने बयान को लेकर सुर्खियों में आ गए हैं. इस बार उन्होंने महिलाओं के सौंदर्य को लेकर बयान दिया है.

बिप्लब कुमार देब ने कहा है कि पहले भारतीय महिलाएं कॉस्मेटिक इस्तेमाल नहीं करती थीं, लेकिन आज महिलाएं खूबसूरती के लिए महिलाएं ब्यूटी पार्लर पर निर्भर करती है.

उन्होंने कहा कि 1997 में मिस इंडिया वर्ल्ड बनीं डायना हेडन ताज के काबिल नहीं थीं, लेकिन उनको मिस वर्ल्ड चुना गया, ताकि भारतीय बाजार में घुसने का मौका मिल जाए.

 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सीएम बिप्लब देव अंतरराष्ट्रीय सौंदर्य प्रतियोगिताओं और उनके पीछे होने वाले व्यापार पर अपने विचार रख रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा कि पहले भारतीय महिलाएं डेंड्रफ (रूसी) से निपात पाने के लिए स्थानीय पत्तियों का इस्तेमाल करती थीं, लेकिन आज इसके लिए शैम्पू का इस्तेमाल किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि जब भारतीय महिलाएं सौंदर्य प्रतियोगिताएं जीतने लगीं तो कंपनियों की नजर भारतीय बाजार पर पड़ी.

सौंदर्य कंपनियों ने भारतीय बाजार में घुसने की कोशिश शुरू कर दी. जिसके बाद एक लय बद्ध तरीके से पांच सालों तक मिस वर्ल्ड और मिस यूनिवर्स के अवार्ड से नवाजा गया, ताकि भारत में कॉस्मेटिक बाजार पर कब्जा किया जा सके. इसके पीछे सौंदर्य प्रतियोगिताओं के आयोजक अंतरराष्ट्रीय मार्केटिंग माफिया हैं,

सीएम बिप्लब देव ने कहा कि सौंदर्य प्रतियोगिताओं के आयोजक अंतरराष्ट्रीय मार्केटिंग माफिया पहले लड़कियों को भर्ती करते हैं. इसके बाद उनको रैंप पर चलवाते हैं. इसके बाद उनको सर्टिफिकेट बांटे जाते हैं. पहले से तय कर लिया जाता है कि किसको अवॉर्ड देना है. उन्होंने कहा कि ये 100 फीसदी सच है.

उन्होंने कहा कि पुराने समय में भारतीय महिलाएं बालों को गिरने से रोकने के लिए कॉस्मेटिक की जगह पर मेथी के पानी और मिट्टी से बाल धोती थीं.

लेकिन आज देश के हर कोने में ब्यूटी पार्लर हैं. अंतरराष्ट्रीय फैशन और डिजाइन प्रतियोगिताओं के पेरिस आधारित आयोजनकर्ता ‘अंतरराष्ट्रीय मार्केटिंग माफिया’ है. उन्होंने इसके जरिए 125 करोड़ भारतीयों के बाजार पर कब्जा करने की कोशिश की है. इसमें आधी आबादी महिलाओं की है.

गौरतलब है कि सीएम बिप्लब देव इससे पहले महाभारत काल में इंटरनेट उपलब्ध होने का दावा करने वाला बयान दे चुके हैं. जिसको लेकर वह विवादों में आ गए थे. उनके बयान को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने काफी मजाक बनाया था.

First published: 26 April 2018, 21:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी