Home » राज्य » Tripura CM Biplab Deb says Tagore returns his Nobel Prize in protest against the British
 

बिप्लब देब ने अब रवींद्रनाथ टैगोर को लेकर दिया विवादित बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 May 2018, 8:53 IST

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब आए दिन अपने बयानों की वजह से सुर्खियों में रहते हैं. उनके बयानों की वजह से बीजेपी की खूब किरकिरी होती रहती है. एक बार फिर उनके बयान ने सबका ध्यान उनकी ओर आकर्षित किया है.

दरअसल, इस बार त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब ने रवींद्रनाथ टैगोर की जयंती के मौके पर कहा कि टैगोर ने अंग्रेजों के विरोध में अपना नोबेल पुरस्कार लौटा दिया थाउन्‍होंने आगे कहा कि जलियावाला बाग नरसंहार के विरोध में रवींद्रनाथ टैगोर ने ब्रिटिश राज द्वारा दिए गए नाइटहुड के खिताब को भी लौटा दिया था.

ये कोई पहला मौका नहीं है जब बिप्लब देब ने ऐसा बयान दिया हो, इससे पहले भी त्रिपुरा के सीएम बिप्लब अपने बयानों के कारण सुर्खियां बटोरते रहे हैं.

महाभारत काल में था इंटरनेट और सैटेलाइट

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने सबसे पहले इंटरनेट और सैटेलाइट वाले बयान को लेकर सुर्खियां बटोरी थी. 18 अप्रैल को अगरतला में एक कार्यक्रम के दौरान बिप्लब देब ने कहा था कि देश में महाभारत युग में भी तकनीकी सुविधाएं उपलब्ध थीं, जिनमें इंटरनेट और सैटेलाइट भी शामिल थे.

सीएम बिप्लब ने कहा था कि, यह सब मेरे देश में पहली बार नहीं हो रहा है. यह वह देश है, जिसमें महाभारत के दौरान संजय ने हस्तिनापुर में बैठकर धृतराष्ट्र को बताया था कि कुरुक्षेत्र के मैदान में युद्ध में क्या हो रहा है. संजय इतनी दूर रहकर आंख से कैसे देख सकते हैं, सो, इसका मतलब है कि उस समय भी तकनीक, इंटरनेट और सैटेलाइट था.

मिस यूनिवर्स डायना हेडन को लेकर भी दिया था बयान

बिप्लब देब ने मिस वर्ल्ड डायना हेडन को लेकर भी विवादित बयान दिया था. बिप्लब देब ने कहा था कि डायना हेडन इंडियन ब्यूटी नहीं हैं. डायना हेडन की जीत फिक्स थी. उन्होंने कहा कि डायना हेडन भारतीय महिलाओं की सुंदरता की नुमाइंदगी नहीं करतीं. ऐश्वर्या राय करती हैं. इसके बाद एक बार फिर बिप्लब देब सुर्खियों में आ गए. हालांकि बाद में उन्होंने अपने बयान पर खेद भी जताया था.

 बेरोजगारों को दे चुके हैं पान की दुकान खोलने की सलाह

इसके बाद बिप्लब देब ने बेरोजगार युवायों को लेकर अजीबोगरीब बात कह दी. उन्होंने कहा कि, युवाओं को नौकरियों के बदले पान की दुकान खोल लेनी चाहिए. उन्होंने कहा था कि युवा राजनीतिक दलों के पीछे सरकारी नौकरी के लिए पड़े रहते हैं.

वह अपने जीवन का महत्वपूर्ण समय यहां-वहां दौड़-भाग कर सरकारी नौकरी की तलाश में बर्बाद करते हैं. उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों के पीछे भागने की बजाय युवा पान की दुकान लगा लें तो उसके बैंक खाते में अब तक 5 लाख रुपए जमा होते.

 

मैकेनिकल इंजीनियर्स को दी थी सविल सर्विस में ना जान की नसीहत

यही नहीं बिप्लब देव ने मैकेनिकल इंजीनियर्स को भी सलाह दी थी कि उन्हें सिविल सर्विस में नहीं जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि, मैकेनिकल इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि वाले लोगों को सिविल सेवाओं का चयन नहीं करना चाहिए. उन्हें समाज का निर्माण करना है. ऐसे में सिविल इंजीनियरों के पास यह ज्ञान है क्योंकि जो लोग प्रशासन में हैं उनको समाज का निर्माण करना है.

सरकार में दखल देने वालों के नाखून नोचने की दी धी धमकी

त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब ने एक कार्यक्रम के दौरान धमकी भरे लहजे में कहा था कि, 'मेरी सरकार में दखल देने वालों के नाखून नोच लिए जाएंगे'. उन्होंने आगे कहा कि, 'बाजार में जो लौकी वाला सुबह 8 बजे ताजा लौकी लेकर आता है, 9 बजे तक उसमें लोग इतना नाखून मार देते हैं कि वह बेचने के लायक नहीं रहता. बाद में उसे किसी गाय को खिलाना पड़ता है, नहीं तो घर वापस ले जाना पड़ता है.

बिप्लब ने कहा कि मेरी सरकार ऐसा नहीं होनी चाहिए कि कोई भी आकर उसमें उंगली मार दे. कोई आकर नाखून लगा दे. जिन्होंने नाखून लगाया तो उसका नाखून निकाल दिया जाना चाहिए. बिप्लब यहीं नहीं रुके थे उन्होंने कहा था कि मेरी सत्ता को कोई हाथ नहीं लगा सकता. सरकार का मतलब बिप्लब देब नहीं है. सरकार माने पब्लिक. मेरी जनता के ऊपर कोई हाथ नहीं लगा सकता है.

ये भी पढ़ें- उन्नाव गैंगरेप: विधायक को बचाने के लिए CBI से करा रहे सेटिंग, मांगे 1 करोड़

First published: 11 May 2018, 8:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी