Home » राज्य » Tripura : one hospital and one RT-PCR lab to fight COVID-19 in this state
 

इस राज्य में COVID-19 से लड़ने के लिए एक अस्पताल और एक RT-PCR लैब, सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 September 2020, 8:58 IST

त्रिपुरा में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं लेकिन राज्य में महामारी से लड़ने के लिए पर्याप्त ढांचा मौजूद नहीं है. राज्य के हालात यह हैं कि यहां सिर्फ एक आरटी- पीसीआर लैब और मात्र एक कोविड हॉस्पिटल है. एक रिपोर्ट के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को इस मामले का संज्ञान लिया है. अदालत ने राज्य सरकार को 18 सितंबर तक एक हलफनामा प्रस्तुत करने का निर्देश दिया, जिसमें उपचार केंद्रों की डिटेल ब्रेक-अप, इंफ्रास्ट्रक्चर, दवाइयां, वर्कफोर्स और कोविड-19 से लड़ने के लिए फंड की जानकारी मांगी गई है.

मुख्य न्यायाधीश अकील कुरैशी सहित एक डिवीजन बेंच द्वारा यह आदेश, अगरतला गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज (AGMC) से जुड़े गोविंद बल्लभ पंत (GBP) अस्पताल के बुरे हालातों की तस्वीरें सोशल मीडिया में आने के बाद दिया गया है. राज्य में मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब, जो स्वास्थ्य मंत्रालय भी संभालते हैं, वह अब गोविंद बल्लभ पंत (GBP) पर लोड कम करने के लिए जिला अस्पतालों का दौरा कर रहे हैं. बुधवार को अगरतला से 190 किमी दूर धलाई अस्पताल का दौरा करने के बाद, देब ने कहा कि वेंटिलेटर, ऑक्सीजन सपोर्ट-इनेबल्ड बेड, ऑक्सीमीटर, इंजेक्शन और दवाएं आपातकालीन आधार पर जिलों में भेजी जाएंगी.


त्रिपुरा ने अदालत से कहा कि कोविड -19 रोगियों के लिए 2,865 अस्पताल के बिस्तर उपलब्ध हैं. हालांकि इसके सभी 19 उपलब्ध वेंटिलेटर GBP अस्पताल में हैं. अदालत को यह भी जानकारी मिली कि 240 बिस्तरों की क्षमता के मुकाबले अस्पताल में 279 मरीज हैं. राज्य में फ़िलहाल 7000 से अधिक सक्रिय मामले हैं. GBP अस्पताल के फोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किये जा रहे हैं. 7 सितंबर को, बीजेपी विधायक सुदीप रॉय बर्मन, जिन्हें पिछले साल स्वास्थ्य मंत्री के रूप में हटा दिया गया था, ने सोमवार को जीबीपी का दौरा किया और कहा की राज्य अस्पताल में डॉक्टरों और नर्सों की कमी का सामना कर रहा है.

1 अगस्त से त्रिपुरा में कोरोना वायरस मामलों में बड़ी बढ़ोतरी देखी गई है, जिसमें मरने वालों की संख्या 24 से 172 हो गई. 35 लाख की अनुमानित जनसंख्या वाले राज्य में मृत्यु दर केवल 1.02 प्रतिशत है, पॉजिटिविटी दर 2.1 प्रतिशत से बढ़कर 5.39 प्रतिशत हो गई है. त्रिपुरा प्रति 10 लाख लोगों पर 88,000 परीक्षण कर रहा है, जो अधिकांश राज्यों की तुलना में अधिक है, लेकिन यह ज्यादातर रैपिड एंटीजन परीक्षण हैं. अधिक विश्वसनीय RT-PCR परीक्षण के लिए AGMC में इसकी केवल एक कोविड -परीक्षण प्रयोगशाला है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार GBP चिकित्सा अधीक्षक डॉ. देबाशीस रॉय ने स्वीकार किया कि अस्पताल में अपनी क्षमता से अधिक मरीज हैं. सीपीएम नेता और पूर्व सीएम माणिक सरकार ने कहा है कि अस्पताल केवल 180 मरीजों को ही संभाल सकता है. GBP हॉस्पिटल के एक सूत्र ने बताया कि अस्पताल वाहनों की कमी से भी जूझ रहा है. केवल एक एम्बुलेंस है जो दो बॉडीज को ले जा सकती है.

Coronavirus Update ; भारत में आये 96,551नए कोविड मामले, जानिए किस राज्य में, अब कितने केस

First published: 12 September 2020, 8:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी