Home » राज्य » UP Police arrest man who reportedly led team in Nabha jail break
 

नाभा जेल ब्रेक: कई राज्यों की पुलिस अलर्ट पर, गाड़ियों की तलाश जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 November 2016, 8:01 IST
(एएनआई)
QUICK PILL
  • नाभा जेल ब्रेक के कथित मास्टडरमाइंड परमिंदर सिंह की गिरफ़्तारी के अलावा बाकी पांच क़ैदियों की तलाश जारी है. 
  • नेपाल सीमा के अलावा कई राज्यों की पुलिस अलर्ट पर है और गाड़ियों की सघन तलाशी जारी है. 

नाभा जेल ब्रेक में उत्तर प्रदेश पुलिस ने 'मास्टरमाइंड' परमिंदर सिंह को गिरफ़्तार करने के दावा किया है. यूपी पुलिस के मुताबिक शामली में पकड़े गए परमिंदर के पास से पुलिस ने भारी मात्रा में हथियार भी बरामद किया है. वहीं गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने नाभा जेल ब्रेक पर पंजाब सरकार से रिपोर्ट तलब की है. 

उत्तर प्रदेश पुलिस के एडीजी दलजीत चौधरी ने कैच न्यूज़ से कहा है कि परमिंदर की गिरफ़्तारी के दौरान उनके पास से दो एसएलआर राइफल, दो अन्य राइफ़ल और गोलियां बरामद हुई हैं. यूपी पुलिस ने एक टोएटा फॉर्च्यूनर कार भी ज़ब्त की है. चौधरी ने कहा, 'परमिंदर ही नाभा जेल ब्रेक के मास्टरमाइंड हैं. उन्होंने तीन अपराधियों को जेल से भगाने की साज़िश रची.' 

चौधरी ने यह भी कहा, 'परमिंदर से सिर्फ़ तीन बदमाश विकी, गुरप्रीत और नीता को भगाने की साज़िश रची. तीनों उनके गैंग के सदस्य हैं. मगर ऐसा लगता है कि तीन खालिस्तानी आतंकी भी इस मौक़े का फ़ायदा उठाकर भागने में कामयाब हुए. इनमें खालिस्तानी लिबरेशन फोर्स के चीफ़ हरमिंदर सिंह मिंटू भी शामिल हैं.' चौधरी के मुताबिक जेल कैदियों में भगाने में तीन कारों का इस्तेमाल हुए. इनमें से सिर्फ़ एक कार उत्तर प्रदेश की सीमा में घुसी थी जबकि दो पंजाब और हरियाणा में हो सकती हैं.

कौन हैं परमिंदर सिंह मिंटू

शुरुआती रिपोर्ट्स के मुताबिक नाभा जेल से कैदियों को भागने में महज़ 10 मिनट का वक़्त लगा. हथियारबंद बदमाश जेल की हाई सिक्योरिटी को भेदते हुए नाभा जेल में घुसे और कुछ ही मिनट में वहां से भागने में कामयाब हो गए. 'मास्टरमाइंड' परमिंदर सिंह करीब डेढ़ महीने पहले भी इसी जेल से भाग चुका था.

केएलएफ़ चीफ़ हरमिंदर सिंह मिंटू को पंजाब पुलिस ने नवंबर 2014 में आईजीआई एयरपोर्ट से उस वक़्त गिरफ़्तार किया था जब वह थाईलैंड से वापस आ रहे थे. 47 साल के मिंटू 10 आतंकी घटनाओं में वांछित थे. सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के मुखिया गुरमीत राम रहीम सिंह पर हुआ हमला भी इन 10 मामलों में शामिल है. वह पंजाब में शिव सेना के तीन नेताओं की हत्या की साज़िश रचने के आरोप में भी वांछित थे. एक मामला लुधियाना के क़रीब हलवारा एयरफोर्स स्टेशन के करीब आईईडी प्लांट करने का भी है. 

मिंटू ने केएलएफ़ का गठन 2009 में किया था. इससे पहले तक वह वाधवा सिंह की अगुवाई वाले बब्बर खालसा इंटरनेशनल से जुड़े हुए थे. 

वहीं भागे हुए कैदियों को पकड़ने के लिए पंजाब के अलावा उत्तर भारत के कई राज्यों की पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया है. नेपाल सीमा के अलावा हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली की पुलिस अलर्ट है. 

First published: 28 November 2016, 8:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी