Home » राज्य » uttarakhand: government has decided to allow licensees to sell liquor through vans or pickup vehicle.
 

उत्तराखंड: महिलाओं के विरोेध के बाद मोबाइल वैन में शराब की बिक्री

Hemraj | Updated on: 23 June 2017, 13:14 IST

उत्तराखंड में महिलाओं द्वारा शराब की दुकानें बंद कराए जाने के आंदोलन के बीच शराब व्यापारियों ने शराब बेचने का एक नया तरीका ढूंढ़ लिया है. आबकारी विभाग ने राजस्व के नुकसान की भरपाई के लिए मोबाइल वैन के जरिए शराब बेचने की फैसला लिया है. इसके बाद उत्तराखंड में कई जगह मोबाइल वैन से शराब बेचने की जानकारी है.

राज्य सरकार ने दी वैन में शराब बेचने की इजाजत

अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार राज्य सरकार ने भी मोबाइल वैन और ट्रक के जरिए शराब बेचने के लिए लाइसेंस देने का निर्णय लिया है. गौरतलब है कि राज्य में महिलाओं का समूह रिहायशी इलाकों में शराब की दुकानों को चलाने का विरोध कर रहा है. महिलाएं रिहायशी इलाकों में शराब की दुकानों के आगे धरना दे रही हैं और शराब की दुकानों को बंद करवा रही हैं.

हल्द्वानी के रानीबाग क्षेत्र में पिकअप से शराब बेची जा रही है. यहां  मोबाइल वैन प्रत्येक दिन एक निश्चित स्थान पर शराब की बिक्री करेगी.  वैन संचालक प्रत्येक दिन मोबाइल वैन के स्थान के संबंध में विभाग को जानकारी उपलब्ध कराएंगे. मोबाइल वैन के जरिए शराब बेचने के सरकार के इस निर्णय से स्थानीय महिलाओं में काफी गुस्सा है. महिलाओं का कहना है कि इससे शराब को बढ़ावा मिलेगा.  

इस फैसले के कारण हो रहा है विरोध

गौरतलब है कि हाईकोर्ट द्वारा चारधाम यात्रा वाले जिले में शराब की बिक्री पर रोक लगाने और सुप्रीम कोर्ट के द्वारा राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों के 500 मीटर के दायरे से शराब की दुकानें हटाने के आदेश के बाद रिहाइशी इलाकों में शराब की दुकान खोलने का ग्रामीण जमकर विरोध कर रहे हैं.

राजस्व के नुकसान से बचने के लिए राज्य सरकार कई स्टेट हाईवे को जिला मार्ग घोषित कर चुकी है. दुकानें न खुलने की वजह से जहां सरकार को करोड़ों रुपये के राजस्व का नुकसान हो रहा है, वहीं लाइसेंसधारी कारोबारियों को भी लाखों का नुकसान हो रहा है.

आबकारी विभाग ने दुकानों का विरोध करने वालों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज करवाया. इसके बावजूद उनका विरोध जारी है. सरकार ने शराब की कई दुकानों पर हंगामे से बचने के लिए पुलिस वालों की तैनाती कर रखी है.

First published: 23 June 2017, 13:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी