Home » राज्य » Villagers walk 15 km to police station with bones in Nuapada district of Odisha
 

ओड़िशा: मानव कंकाल लेकर थाने पहुंचे ग्रामीण, पुलिस पर लगाया ये गंभीर आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2018, 11:03 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

ओडिशा के नौपाड़ा जिले में रविवार को एक अजीबोगरीब घटना देखने को मिली. जब कुछ ग्रामीण एक मानव कंकाल और कुछ अन्य चीजों को लेकर थाने पहुंच गए और पुलिस से जांच की मांग करने लगे. मामला नौपाड़ा जिले के भैंसदानी गांव का है. इस गांव के कुछ लोग एक मानव कंकाल लेकर पैदल ही15 किलोमीटर दूर स्थित थाने पहुंच गए.

ये कंकाल सुकल साई पहरिया का था. जो स्वास्थ्य कार्यकर्ता के रूप में भैंसदानी पंचायत में तैनात था. द हिंदू की खबर के मुताबिक सुकल साई को 7 सप्ताह पहले पुलिस ने पुलिस ने बुलाया था. उसके बाद उसका शरीर गांव के बाहर पड़ा मिला. सुकल साई की पत्नी ने बताया कि, “मेरे पति को पुलिस ने 19 अप्रैल को बुलाया था, उसके बाद वो घर वापस नहीं लौटे.”

खबर के मुताबिक सुकल साई की पत्नी सौभाग्या पहरिया ने आगे बताया कि, “ शनिवार को 4 ग्रामीण गांव के बाहर जंगल में गए थे. जहां उन्हें एक मानव कंकाल मिला. मुझे नहीं मालूम कि ये कंकाल किसका है, लेकिन कंकाल के पास मिला तौलिया, बैग, मोबाइल फोन और चप्पल मेरे पति के थे.”

सुकल के परिवार का आरोप है कि जब पुलिस ने 19 अप्रैल को उसे बुलाया तब ये नहीं बताया गया कि उसे कहां बुलाया गया है. ग्रामीणों को संदेश है कि सुकल पहरिया की पुलिस हिरासत में मौत हो गई. ग्रामीणों का कहना कि सुकल पहले ऐसे व्यक्ति थे जो बेहद पिछड़े पहरिया समुदाय में पहले पोस्ट ग्रेजुएट थे.

वहीं बोडेन पुलिस ने सुकल साई की पत्नी अपने पति की गुमशुदगी की शिकायत लेने से मना कर दिया. सुकल की पत्नी के पास अब कोई रास्ता नहीं बचा है. सुकल की पत्नी ने ओड़िशा पुलिस के उच्च अधिकारियों के अलावा राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को पत्र लिखा है. जिसमें कहा गया है कि बोडेन पुलिस उसकी शिकायत सुने और उस पर कार्रवाई करे.

ये भी पढ़ें- इस मंदिर में दूध चढ़ाने के बाद बदल जाता है उसका रंग, हैरान करने वाली है वजह

First published: 11 June 2018, 11:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी