Home » राज्य » West Bengal to opt out of 'Modicare'; Mamata Banerjee says state already provides free healthcare
 

ममता का ऐलान, पश्चिम बंगाल में लागू नहीं होगा 'मोदी केयर'

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 February 2018, 14:48 IST

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ऐलान किया है कि उनके राज्य में केंद्र सरकार द्वारा बजट में प्रस्तावित नेशनल हेल्थ स्कीम को नहीं लागू किया जाएगा. गौरतलब है कि अमेरिका में लागू किए गए ओबामा केयर की तरह पूरे देश में मोदी केयर को लागू करने की घोषणा 2018 के आम बजट में की गई थी. 

पश्चिम बंगाल देश का ऐसा पहला राज्य बन गया है जहां से स्कीम लागू नहीं होगी. टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने कृष्ण नगर में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा,"जब राज्य के पास पहले से ये स्कीम है तो दूसरी स्कीम में राज्य पैसा क्यों दे?" उन्होंने दावा किया कि उनके राज्य में पहले से ही  हेल्थ स्कीम चल रही है. अब वो इस पर अपने संसाधन बर्बाद नहीं करेगा.

ममता बनर्जी ने मोदी सरकार पर राज्य के साथ भेदभाव करने के आरोप लगाए. उन्होंने केंद्र शासित मोदी सरकार पर राज्य को कई योजनाओं के लिए मिलने वाली आर्थिक मदद को रोकने के आरोप लगाए. उन्होंने मोदी सरकार को चेतावनी दी कि अगर मोदी सरकार ने अपनी जन विरोधी नीतियां नहीं बदली तो भाजपा सरकार के खिलाफ राष्ट्रव्यापी आंदोलन शुरू करेंगी.

 

गौरतलब है कि मोदी सरकार की प्रस्तावित नेशनल हेल्थ स्कीम में राज्यों को 40% हिस्सा देना है, जबकि बाकी 60% का खर्चा सरकार उठाएगी. इस नेशनल हेल्थ प्रॉटेक्शन स्कीम (राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना) के तहत 10 करोड़ गरीब परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये के स्वास्थ्य बीमा (हेल्थ इंश्योरेंस) मिलेगा.

ममता बनर्जी ने कहा, "भाजपा नीत केंद्र सरकार ने एकीकृत बाल विकास सेवाओं सहित किसानों, गरीबों और मध्यम वर्ग के लोगों से संबंधित अन्य विकास कार्यक्रमों के लिए अपना 90 प्रतिशत कोष रोक दिया है. लेकिन हमने एक भी परियोजना को नहीं रोका है और वित्तीय बाधाओं के बावजूद अपने खुद के संसाधनों से पर्याप्त कोष देकर उन्हें बरकरार रखा है.’’

First published: 14 February 2018, 13:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी