Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » ADR report says, BJP has maximum candidate of criminal background
 

उत्तर प्रदेश: सबसे ज़्यादा आपराधिक रिकॉर्ड वाले उम्मीदवार भाजपा के

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 February 2017, 7:40 IST

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 के लिए पहले चरण का मतदान 11 फरवरी को किया जाएगा. इस मतदान से ठीक एक हफ्ता पहले एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक राइट्स ने 839 में से 836 उम्मीदवारों से जुड़ी एक रिपोर्ट जारी की है. यह रिपोर्ट बताती है कि सभी राजनीतिक दलों में आपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों की भरमार है जबकि चुनाव प्रचार के दौरान इन दलों के नेता सूबे को अपराध मुक्त कराने का दावा करते हैं. 

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तर प्रदेश चुनाव प्रचार के दौरान सपा सरकार को कानून व्यवस्था पर जमकर घेरा. इन्होंने कहा कि सपा सरकार में गुंडाराज है. माफियाओं का आतंक है और भाजपा की सरकार आने पर सभी गुंडों को जेल भेजा जाएगा. 

सबसे कम दागी कांग्रेस में

मगर एडीआर की रिपोर्ट कहती है कि इस चुनाव में भाजपा ने सबसे ज़्यादा क्रिमिनल बैकग्राउंड वाले नेताओं को टिकट बांटा है. रिपोर्ट के मुताबिक पहले चरण में भाजपा के कुल 73 उम्मीदवारों में से 29 (40 फीसदी) के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं. दूसरे नंबर पर बसपा है जिसके 73 में से 28 (38 फीसदी) उम्मीदवारों का क्रिमिनल बैकग्राउंड है. वहीं सपा के महज़ 15 उम्मीदवार (29 फीसदी) और सबसे कम कांग्रेस के 6 उम्मीदवार (25 फीसदी) आपराधिक छवि वाले हैं.

एडीआर ने अपनी रिपोर्ट में इन उम्मीदवारों की संपत्ति का भी ब्यौरा दिया है. रिपोर्ट कहती है कि पहले चरण के कुल उम्मीदवार 839 में से 302 करोड़पति हैं. बसपा पहले नंबर पर है जिसने 66 करोड़पति उम्मीदवारों को टिकट दिया है. भाजपा भी अमीरों को टिकट देने में पीछे नहीं है. बसपा से महज़ पांच उम्मीदवार कम यानी कि भाजपा के 61 प्रत्याशी करोड़पति हैं. वहीं सपा में 40 और कांग्रेस के सबसे कम 18 उम्मीदवार करोड़पति हैं. इन उम्मीदवारों में से 14 फ़ीसदी के पास पांच करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है.

इन उम्मीदवारों में तकरीबन आधे (402) उम्मीदवार ऐसे हैं जिनकी औपचारिक शिक्षा का स्तर पांचवीं से 12वीं के बीच है. 336 उम्मीदवारों ने अपने हलफ़नामे में दावा किया है कि उनकी शैक्षणिक योग्यता स्नातक या इससे ऊपर है. महज़ 15 उम्मीदवार ऐसे हैं जो निरक्षर हैं. सभी दलों में महिलाओं को उम्मीदवार बनाने का उत्साह नहीं दिखता है. 

First published: 6 February 2017, 7:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी