Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » Akhilesh Yadav a fantastic Chief Minister but not mass leader yet, says Amar Singh
 

अमर सिंह बोले- 'अखिलेश बेहतरीन मुख्यमंत्री लेकिन जननेता बनने में अभी लगेगा वक्त'

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 October 2016, 11:44 IST
(फाइल फोटो)
QUICK PILL
  • समाजवादी परिवार में विवाद के लिए यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने अमर सिंह को जिम्मेदार ठहराया है.
  • अमर सिंह का कहना है कि जब मुलायम सिंह ने उनके बारे में बयान दे दिया तो आरोपों के कोई मायने नहीं हैं.
  • अमर ने बतौर सीएम अखिलेश यादव की तारीफ की, लेकिन उनके मास लीडर होने पर सवाल उठाए.
  • छह साल बाद सपा में लौटे अमर सिंह को चार महीने पहले ही राज्यसभा सदस्य बनाया गया था.

समाजवादी पार्टी के पारिवारिक घमासान में जिस एक किरदार का नाम सबसे ज्यादा उछल रहा है वो हैं अमर सिंह. चाहे शिवपाल यादव के अखिलेश मंत्रिमंडल से बर्खास्तगी की बात हो या मुलायम सिंह की अखिलेश को फटकार हर बार विवाद के केंद्र में अमर सिंह ही रहते हैं.

एक तरफ जहां पिछले दो दिन से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में समाजवादी परिवार का घमासान चरम पर पहुंच गया, वहीं दूसरी ओर अमर सिंह लखनऊ से तकरीबन एक हजार किलोमीटर दूर पूर्वी भारत के मेट्रो शहर कोलकाता में शांतचित्त नजर आए. हालांकि इस विवाद के बाद पहली बार उनका बयान सामने आया है.

'अखिलेश का विकास एजेंडा विलक्षण'

कोलकाता में एक कार्यक्रम के दौरान अमर सिंह ने कहा, "एक मुख्यमंत्री के तौर पर अखिलेश यादव बहुत शानदार हैं. पहली बार एक प्रशासक के रूप में विकास पर उनका केंद्रित होना और विकास एजेंडा विलक्षण है."

हालांकि अमर सिंह ने अखिलेश के मास लीडर (जननेता) बनने में अभी वक्त लगने की बात कही. अमर सिंह ने कहा, "मैं यह नहीं कह रहा हूं कि वह (अखिलेश) एक जननेता नहीं हैं, लेकिन अभी उन्हें जननेता बनने में वक्त लगेगा." 

'साथ खड़े होने के लिए नेताजी का धन्यवाद'

अमर सिंह ने साथ ही इस दौरान कहा, "अभी भी वो बहुत युवा हैं. मुलायम सिंह की सांगठनिक कुशलता और अनुभव के साथ अखिलेश के युवा चेहरे का सम्मिश्रण बहुत जरूरी है." 

अखिलेश यादव ने सोमवार को सपा कार्यालय में मुलायम सिंह यादव के सामने भी अमर सिंह को कठघरे में खड़ा किया था. अमर सिंह ने सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह और प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव का उनका साथ देने के लिए शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि मुलायम समाजवादी पार्टी के पिता और मूलभूत तत्व हैं.

'संकट का समाधान होना चाहिए'

सपा में चल रहे संकट पर अमर सिंह ने कहा कि वाइब्रेंट लोकतंत्र में समस्या कोई नई चीज नहीं है. अमर ने कहा, "सीपीआई (एम) की केरल यूनिट में भी इस तरह की समस्या आई थी, लेकिन सबसे अहम यह है कि संकट का समाधान होना चाहिए." 

समाजवादी पार्टी को तोड़ने की साजिश रचने के आरोपों पर अमर सिंह ने कहा, "हमारे पार्टी अध्यक्ष के ताजा बयान के बाद इन आरोपों का कोई मतलब नहीं रह गया है. जब आखिरी अथॉरिटी ने बयान दे दिया है फिर ऐसे आरोप अप्रासंगिक हो जाते हैं."

'मेरी खामोशी सारे सवालों का जवाब'

मुलायम सिंह ने सपा विधायकों की बैठक के दौरान छोटे भाई शिवपाल यादव और अमर सिंह का पक्ष लेते हुए अखिलेश यादव को फटकार लगाई थी. मुलायम ने अमर को अपना भाई और शिवपाल यादव को जननेता कहा था.

सोमवार को समाचार एजेंसी पीटीआई से बातचीत में अमर सिंह ने कहा कि अखिलेश यादव को मेरी शुभकामनाएं हैं. वहीं जब अमर सिंह से आरोपों पर जवाब मांगा गया तो उन्होंने कहा, "मैं खामोश रहना चाहता हूं. मेरी खामोशी सारे सवालों का जवाब है."

'अखिलेश को मेरी शुभकामनाएं'

सीएम अखिलेश यादव को शुभकामनाएं देते हुए अमर सिंह ने कहा, "मेरी शुभकामनाएं अखिलेश के साथ हैं.  मैंने उनके जन्मदिन पर भी बधाई दी थी. वह मेरे सर्वोच्च नेता के बेटे हैं." 

जाहिर है अमर सिंह इस विवाद में मुंह खोलकर कोई नया बखेड़ा नहीं खड़ा करना चाहते. हालांकि अखिलेश यादव के तेवर उनके खिलाफ काफी तल्ख हैं. सोमवार को मुलायम सिंह के सामने ही अखिलेश ने कहा था कि अमर सिंह ने एक अंग्रेजी अखबार में लेख छपवाने में मदद की जिसमें उन्हें औरंगजेब और मुलायम को शाहजहां कहा गया था.

अखिलेश ने साथ ही यह भी कहा कि रामगोपाल यादव ने नहीं बल्कि अमर सिंह ने दिल्ली में कहा था कि मैं नवंबर तक प्रदेश का मुख्यमंत्री नहीं रह पाऊंगा.

First published: 25 October 2016, 11:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी