Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » Election commission wants Affidavit to Mulayam singh and Akhilesh Yadav
 

चुनाव आयोग ने मांगा मुलायम और अखिलेश से समर्थकों का हलफनामा

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 January 2017, 13:47 IST
(कैच)

उत्तर प्रदेश में मुलायम परिवार के झगड़े में चुनाव आयोग ने सपा के दोनों गुटों की दलीलों को सुनने के बाद अपना फरमान जारी किया है कि वो आगामी 9 जनवरी तक अपने-अपने समर्थन में विधायक, एमएलसी और एमपी समर्थकों का हलफनामा चुनाव आयोग में दाखिल करें.

खबरों के मुताबिक दोनो पक्षों से हलफनामा मिलने के बाद ही चुनाव आयोग ये तय करेगी कि किस पक्ष को चुनाव चिन्ह 'साइक‌िल' दिया जाए या फिर 'साइकिल' की जगह दोनों गुटों को कोई अन्य चुनाव च‌िन्ह दिया जाए.

इस बीच खबर आ रही है कि मुलायम स‌िंह चुनाव आयोग को अपने गुट की ओर से हलफनामा देने के लिए श‌िवपाल यादव के साथ द‌िल्ली के ल‌िए रवाना हो चुके हैं.

गौरतलब है कि बीते 1 जनवरी को अखिलेश यादव के असंतुष्ट गुट ने सपा का आकस्मिक राष्ट्रीय अधि‍वेशन बुलाया था.

इस अध‌िवेशन में सदस्यों की आम सहमति से अख‌िलेश को पार्टी का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया था. इसके अलावा श‌िवपाल को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाया गया और अमर स‌िंह को पार्टी से बाहर का रास्ता द‌िखा द‌िया गया.

इस घटना के बाद से सपा अखिलेश और मुलायम के खेमों में बंट गई थी. हालांक‌ि मुलायम स‌िंह ने इस अध‌िवेशन को असंवैधान‌िक बताया. अब अ‌ख‌िलेश और मुलायम गुट में चुनाव च‌िह्न 'साइक‌िल' को लेकर व‌िवाद है.

बीते ‌द‌िनों मुलायम स‌िंह यादव अपने भाई शिवपाल, अमर सिंह और जयाप्रदा के साथ चुनाव आयोग के समक्ष पहुंचे और अपनी बात रखी.

मुलायम ने चुनाव आयोग को बताया कि अख‌िलेश का अध‌िवेशन पूरी तरह से पार्टी के नियमों के खिलाफ है.

हालांक‌ि अख‌िलेश गुट के मुताब‌िक पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष क‌िरनमय नंदा ने इस अध‌िवेशन की अध्यक्षता की थी और ऐसी स्थ‌ित में अध‌िवेशन पूरी तरह से वैध है.

चुनाव आयोग से मुलायम की मुलाकात के बाद अख‌िलेश गुट की ओर से रामगोपाल यादव ने भी मुलाकात करके अपना पक्ष रखा था.

वहीं, ताजा घटनाक्रम में सीएम अखिलेश ने बृहस्पतिवार को लखनऊ में सपा विधायकों की बैठक बुलाई है. इस बैठक में विधानसभा और विधान परिषद के सपा सदस्य शामिल होंगे.

विधायकों में अधिकतर प्रत्याशी हैं. माना जा रहा है कि सीएम उनके साथ चुनाव की तैयारियों को लेकर चर्चा करेंगे.

सपा सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में सीएम द्वारा कुछ लोगों को अहम जिम्मेदारियां सौंपी जाएंगी. सिंबल न मिलने की स्थिति में चुनाव कैसे लड़ा जाए और सिंबल मिलने पर क्या रणनीति रहेगी, इस बारे में विधायकों से मशविरा करेंगे.

First published: 5 January 2017, 13:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी