Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » former Minister Raja Bhaiyya and four others booked in a case of forgery
 

राजा भैया, उनकी पत्नी समेत पांच पर धोखाधड़ी का मुक़दमा दर्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 May 2017, 17:59 IST

उत्तर प्रदेश की पिछली सरकार में मंत्री रहे और कुंडा विधानसभा सीट से मौजूदा विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया समेत पांच के ख़िलाफ़ धोखाधड़ी का मुक़दमा दर्ज हुआ है. यह एफआईआर बहराइच के थाना दरगाह शरीफ में दर्ज की गई है. इस मामले में राजा भैया की पत्नी को भी मुलज़िम बनाया गया है.

यह मुक़दमा दर्ज करने का आदेश बहराइच के अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने डेढ़ महीने पहले दिया था लेकिन पुलिस आनाकानी करती रही. इसके बाद याचिकाकर्ता ने 10 मई को एसओ के खिलाफ अवमानना का वाद दाखिल कर दिया था, तब जाकर पुलिस में राजा भैया सहित पांच लोगों के ख़िलाफ़ धोखाधड़ी सहित गंभीर धाराओं में मुक़दमा दर्ज हो सका है.

राजा भैया के ख़िलाफ़ शिकायत उनके पूर्व पीआरओ राजीव यादव ने की थी. मगर हाई प्रोफाइल मामला होने के नाते पुलिस इस केस में एफआईआर दर्ज नहीं कर रही थी. मगर अब अदालत की मदद से राजा भैया के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है. इनके खिलाफ आईपीसी की धारा 419, 420, 467, 468 में मामला दर्जकर तफ़्तीश की जा रही है.

क्या है मामला

राजा भैया के वहां पीआरओ के पद परराजीव कुमार यादव काम करते थे लेकिन मार्च 2008 में राजीव ने राजा भैया का साथ छोड़ दिया था. राजीव का आरोप है कि उन्हें फंसाने के मकसद से राजा भैया ने अपनी पत्नी भानवी और पत्नी के बीमा एजेंट का काम देखने वाले बहराइच निवासी रोहित प्रताप और मोनिका के सहयोग से शहर के एक्सिस बैंक में राजीव यादव के नाम से खाता खुलवा दिया था. इस खाते में फोटो राजीव की नहीं थी लेकिन नाम और कागजात उनके ही लगे हुए थे.

राजीव को जब इसके बारे में पता चला तो उन्होंने साल 2008 में दरगाह शरीफ थाने में तहरीर दी, लेकिन केस दर्ज नहीं हुआ. अदालत का दरवाज़ा खटखटाने पर सुनवाई 2016 में शुरू हुई और फिर कोर्ट के आदेश पर रघुराज प्रताप सिंह, उनकी पत्नी भानवी, कर्मचारी रोहित, मोनिका और बैंक के प्रबंधक पर धोखाधड़ी का केस दर्ज किया गया.

First published: 11 May 2017, 17:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी