Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » Gayatri Prajapati Case: Two more arrested from Noida by UP STF
 

गायत्री प्रजापति केस में यूपी STF ने दो अभियुक्तों को नोएडा से किया गिरफ़्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 March 2017, 11:00 IST
(पीटीआई फाइल फोटो)

गायत्री प्रजापति मामले में यूपी एसटीएफ ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है. यूपी के कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति और उनके सहयोगियों पर एक महिला से गैंगरेप का आरोप है. यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर दलजीत चौधरी ने बताया कि एसटीएफ ने नोएडा से दो लोगों को इस मामले में गिरफ़्तार किया है.

नोएडा से अशोक तिवारी और आशीष शुक्ला को गिरफ्तार किया गया है. इससे पहले गायत्री प्रजापति के गनर चंद्रपाल ने सोमवार को लखनऊ में सरेंडर कर दिया था. अब तक तीन लोग पुलिस की गिरफ्त में आ चुके हैं. 

यूपी पुलिस और एसटीएफ अब गायत्री प्रजापति को ढूंढ़ने में जुटी है. शनिवार को गायत्री की लोकेशन नोएडा में होने की खबर मिली थी. फिलहाल पुलिस गायत्री की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी और सर्च ऑपरेशन चला रही है. यह भी माना जा रहा है कि गायत्री प्रजापति इस मामले में सीजेएम कोर्ट में सरेंडर कर सकते हैं. उनके खिलाफ लखनऊ के गौतम पल्ली थाने में रेप का केस दर्ज है.

ये है पूरा मामला

परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति समेत 7 लोगों के खिलाफ लखनऊ के थाना गौतमपल्ली थाने में रेप, गैंगरेप और नाबालिग के साथ रेप के प्रयास का मामला दर्ज है. मामले की विवेचक सीओ आलमबाग अमिता सिंह द्वारा पीड़िता का 164 सीआरपीसी के तहत न्यायालय में कलमबद्ध बयान दर्ज हो चुका है. पीड़िता की बेटी के बयान के लिए विवेचक की टीम दिल्ली गई थी जहां उसका बयान दर्ज किया गया.

चित्रकूट जिले की एक महिला ने परिवहन मंत्री गायत्री प्रजापति समेत उनके गुर्गों पर गैंगरेप के साथ ही बेटी के भी यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यूपी पुलिस ने एफआईआर दर्ज की थी. मामले की पहले सीबीसीआईडी जांच चल रही थी.

गायत्री प्रजापति समेत 7 लोगों के खिलाफ 18 फरवरी को गौतमपल्ली थाने में केस दर्ज हुआ. गायत्री प्रसाद प्रजापति के अलावा अशोक तिवारी,आशीष शुक्ला, चंद्रपाल, पिंटू सिंह, विकास वर्मा और रूपेश के खिलाफ थाना गौतमपल्ली में अपराध संख्या 29/11 आईपीसी की धारा 376 डी महिला के साथ गैंगरेप, 376/511 महिला की बेटी के साथ रेप का प्रयास, 504,506 और 3/4 पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज है.

First published: 7 March 2017, 11:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी