Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » UP CM Akhilesh Yadav flags off first trial run of Lucknow Metro Rail Corporation
 

26 मार्च से लखनऊ में चल सकती है मेट्रो, पहले ट्रायल रन को हरी झंडी

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 December 2016, 14:28 IST
(लखनऊ मेट्रो)

अगर सब कुछ ठीक रहा तो नवाबों के शहर लखनऊ के लोग 26 मार्च से मेट्रो के सफ़र का लुत्फ उठा सकेंगे. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार को मेट्रो प्रोजेक्ट के पहले ट्रायल रन का आगाज किया.

इस दौरान समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव और सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव समेत कई वरिष्ठ मंत्री मौजूद रहे. लखनऊ मेट्रो रेल प्रोजेक्ट का अब तकरीबन तीन महीने तक ट्रायल रन चलेगा.

सीएम अखिलेश यादव ने दिखाई हरी झंडी

पहले दौर में ट्रांसपोर्ट नगर से चारबाग तक जनता मेट्रो सेवा का फायदा उठा सकेगी. सीएम अखिलेश यादव ने ट्रांसपोर्टनगर से सिंगारनगर स्टेशन के बीच ट्रायल रन को हरी झंडी दिखाई.

इससे पहले सीएम अखिलेश यादव ने आज सुबह अपने ट्विटर पेज पर लिखा, "इमामबाड़ा और रूमी दरवाजे सी आलीशान बन रही. लखनऊ-मेट्रो, प्रगति पथ की एक नई पहचान बन रही."

ट्विटर

ट्रायल रन की कमान महिलाओं के पास

लखनऊ मेट्रो के पहले ट्रायल रन की खास बात ये है कि मेट्रो महिला चालकों ने चलाया. दूसरे दिन से मेट्रो का ट्रायल रन ट्रांसपोर्टनगर से मवैया के बीच होगा. एक जनवरी 2017 से इसका ट्रायल रन चारबाग तक होगा.

इससे पहले पिछले तीन दिन तक ट्रांसपोर्टनगर से मवैया के बीच मेट्रो के ट्रैक का परीक्षण हुआ. तकनीकी परीक्षण कामयाब रहने के बाद ट्रायल रन की तैयारी की गई. ट्रायल रन के कार्यक्रम के दौरान मेट्रो मैन के नाम से मशहूर ई श्रीधरन भी मौजूद रहे. सीएम अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव भी इस आयोजन में शामिल हुईं.

मार्च 2014 में हुआ था शिलान्यास

लखनऊ मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के मैनेजिंग डायरेक्टर कुमार केशव हैं. सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने मार्च 2014 में लखनऊ मेट्रो रेल सेवा का शिलान्यास किया था

इस वक् संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा है, लेकिन प्रोजेक्ट सपा के लिए कितना अहम है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उद्घाटन में शामिल होने के लिए मुलायम सिंह यादव बुधवार शाम को ही पहुंच गए थे.

शिलान्यास के वक् ही सपा सुप्रीमो ने उद्घाटन का समय निर्धारित कर दिया था. मुलायम ने मेट्रो के अफसरों से 2016 के अंत तक प्रोजेक्ट का पहला चरण पूरा करने के लिए कहा था.

ट्रायल रन पांच किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हुआ. आगे इसकी रफ्तार 10 किमी़ प्रति घंटे बढाई जा सकती है. पहले चरण में अमौसी से आलमबाग तक करीब सात किलोमीटर ट्रैक का निर्माण हुआ है.

शुरुआती दौर में छह मेट्रो ट्रेनें चलेंगी और हर ढाई मिनट पर मेट्रो सेवा उपलब्ध रहेगी.

First published: 1 December 2016, 14:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी