Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » Emotional appeal of Mulayam Singh to Akhilesh Yadav, Shivpal is your uncle hug him
 

मुलायम का आखिरी दांव- शिवपाल और अखिलेश को मंच पर गले मिलवाया

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 October 2016, 12:28 IST

समाजवादी पार्टी के इतिहास की सबसे अहम बैठक में मुलायम सिंह यादव ने बेटे और यूपी के सीएम अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के बाद भावुक संबोधन दिया. इस बैठक में सपा के सभी विधायक, एमएलसी, पूर्व सांसद और वरिष्ठ पदाधिकारी मौजूद रहे.

मुलायम सिंह यादव ने जब अपना संबोधन पूरा किया, तो एक तरीके से उन्होंने आखिरी दांव चलते हुए बेटे से भावुक अपील की. मुलायम ने अखिलेश से कहा, " शिवपाल यादव तुम्हारे चाचा हैं, उनके गले लगो." 

'शिवपाल तुम्हारे चाचा हैं, गले लगो'

जिसके बाद अखिलेश यादव और शिवपाल यादव एक-दूसरे के गले मिले. इससे पहले अपने संबोधन के दौरान मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि वह अमर सिंह और शिवपाल यादव का साथ नहीं छोड़ सकते.

मुलायम ने कहा कि अमर सिंह उनके भाई हैं और उन्हीं की वजह से वह जेल जाने से बचे हैं. मुलायम ने अखिलेश से सवालिया लहजे में कहा कि क्या अकेले चुनाव जिता सकते हो, तुम्हारी हैसियत क्या है?

मुलायम सिंह के संबोधन की अहम बातें

1. हमारे परिवार में चल रही तनातनी से बहुत आहत हूं.

2. पार्टी के बहुत संघर्ष करके यहां तक पहुंचे हैं.

3. नारे लगाने वालों को क्या पता हम कैसे लड़े?

4. पार्टी के लिए लाठियां खाई हैं, जेल गए हैं.

5. जो उछल रहे हैं एक लाठी नहीं खा पाएंगे.

6. नारेबाजी करने वालों को पार्टी से निकाल देंगे.

7. शिवपाल यादव आम जनता के बीच के नेता हैं.

8. मैं अभी कमजोर नहीं हुआ हूं. मेरे एक इशारे पर कुछ भी कर देंगे नौजवान

9. अखिलेश यह न समझें कि नौजवान मेरे साथ नहीं हैं

10. एक आवाज लगाऊंगा तो नौजवान खड़े हो जाएंगे.

11. क्या पद मिलते ही आपका (अखिलेश का) दिमाग खराब हो गया.

12. समाजवादी पार्टी टूट नहीं सकती.

13. मैं जानता हूं कि मेरी पार्टी टूट नहीं सकती.

14. मुख्तार अंसारी का परिवार ईमानदार परिवार.

15. उस परिवार से देश के उपराष्ट्रपति आए हैं.

16. प्रधानमंत्री बनने के लिए कोई समझौता नहीं किया.

17. सपा में कुछ लोग हवा में घूम रहे हैं.

18. क्या आप (अखिलेश) जुआरियों-शराबियों की मदद कर रहे हो.

19. अमर सिंह मेरा भाई है. कई बार हमारी मदद की थी. उनके सभी गुनाह माफ हैं.

20. शिवपाल के काम को कभी नहीं भुला सकता.

21. बड़ा नहीं सोच सकता, नेता नहीं बन सकता.

22. आलोचना सह सकते हैं, वहीं रह सकते हैं.

23. शिवपाल और अमर के खिलाफ कुछ नहीं सुन सकता.

24. तुम्हारी (अखिलेश) की हैसियत क्या है?

25. अमर सिंह नहीं बचाते तो मुझे सजा होती. मुझे जेल जाने से बचाया.

26. मैं और शिवपाल अलग नहीं हो सकते.अमर और शिवपाल को नहीं छोड़ सकता.

27. क्या अखिलेश तुम अकेले चुनाव जिता सकते हो.

28. गायत्री प्रजापति बहुत गरीब परिवार से हैं.

29. पीएम मोदी को देखिए, वह समर्पण और संघर्ष से पीएम बने हैं.

30. वह एक गरीब परिवार से हैं और कहते हैं कि अपनी मां को नहीं छोड़ सकता.

First published: 24 October 2016, 12:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी