Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » Ram Gopal Yadav: We had come to the EC to urge them to expedite the decision as nominations will start soon
 

मुलायम सिंह: अखिलेश-मेरे बीच कोई तकरार नहीं, विवाद के पीछे 'एक आदमी'

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 6:42 IST
(फाइल फोटो)

समाजवादी पार्टी में चल रहे घमासान के बीच अब असली लड़ाई दिल्ली में केंद्रित हो गई है. मुलायम सिंह यादव के अलावा रामगोपाल यादव ने आज दिल्ली में चुनाव आयोग के अधिकारियों से मुलाकात की. 

मुलायम ने इस दौरान अपने खेमे के समर्थक विधायकों, सांसदों और डेलीगेट्स के बारे में जानकारी दी. अखिलेश खेमे के समर्थक रामगोपाल यादव पहले ही सपा के प्रतिनिधियों का हलफनामा चुनाव आयोग को सौंप चुके हैं. 

मुलायम के साथ शिवपाल यादव और अमर सिंह भी चुनाव आयोग के दफ्तर पहुंचे. वहीं चुनाव आयोग के अफसरों से मुलाकात के बाद बाहर निकलते हुए मुलायम सिंह यादव ने एक बार फिर रामगोपाल यादव पर निशाना साधा. 

मुलायम ने इस दौरान कहा, "समाजवादी पार्टी में कुछ समस्या है. केवल एक आदमी इस विवाद के पीछे है. मुझे भरोसा है कि मुद्दा जल्द सुलझ जाएगा." 

मुलायम ने इस दौरान अपने और अखिलेश यादव के बीच किसी तरह के विवाद की बात को खारिज करते हुए कहा, "मेरे और मेरे पुत्र अखिलेश यादव के बीच किसी तरह की तकरार नहीं है."

रामगोपाल फिर पहुंचे चुनाव आयोग

इस बीच दोपहर ढाई बजे के बाद अखिलेश खेमे के समर्थक रामगोपाल यादव और नरेश अग्रवाल चुनाव आयोग के दफ्तर पहुंचे. इससे पहले रविवार को मुलायम ने लखनऊ में समाजवादी पार्टी के दफ्तर पर ताला लगवा दिया. साथ ही  उनके आदेश पर अखिलेश यादव की नेमप्लेट भी हटा दी गई. 

मुलायम के सोमवार को चुनाव आयोग जाने से पहले शिवपाल यादव उनके दिल्ली स्थित आवास पर पहुंचे. रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मुलायम ने कहा था कि वह समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, जबकि शिवपाल यादव प्रदेश अध्यक्ष. मुलायम ने कहा कि अखिलेश मुख्यमंत्री हैं और मैं पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष हूं.

EC से जल्द फैसले की मांग

मुलायम ने इस दौरान कहा कि रामगोपाल यादव को एक जनवरी का अधिवेशन बुलाने से पहले ही पार्टी से छह साल के लिए निकाला जा चुका था, लिहाजा उनका बुलाया गया राष्ट्रीय अधिवेशन असंवैधानिक है और उनको यह बैठक बुलाने का अधिकार ही नहीं था. 

रामगोपाल यादव से आज जब पूछा गया कि वह दोबारा चुनाव आयोग किसलिए आए हैं, तो रामगोपाल ने कहा, "हम चुनाव आयोग के पास यह मांग करने आए थे कि समाजवादी पार्टी को लेकर आयोग जल्द फैसला ले क्योंकि जल्द ही उत्तर प्रदेश में नामांकन प्रक्रिया शुरू होने वाली है." उत्तर प्रदेश में पहले चरण की नामांकन प्रक्रिया 17 जनवरी से शुरू होने वाली है.

इस दौरान मुलायम के बयान पर रामगोपाल ने कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. रामगोपाल ने कहा कि नेताजी के किसी भी बयान पर मैं कमेंट नहीं करूंगा. 

अमर ने कहा- हर बलिदान को तैयार

मुलायम की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले अमर सिंह ने रविवार को कहा, "मैं मुलायम के लिए कुछ भी करने को तैयार हूं. मैंने इस्‍तीफा देने की कोशिश की और देने के लिए भी तैयार बैठा हूं. हर तरह का बलिदान देने को तैयार हूं. सारी विषमता और प्रतिकूलता का ठीकरा मुझ पर और भाई शिवपाल यादव पर फोड़ दिया गया है."  

साथ ही अमर ने यह भी कहा, "मैं और शिवपाल मिट्टी थे. जिस कुम्‍हार ने हमारा निर्माण किया, हमारी प्रतिमा बनाई वो मुलायम सिंह हैं. हम उसके दो बाजू हैं. मैं हाथ जोड़कर विनती करना चाहता हूं और क्‍या लोगे? त्‍यागपत्र देने को तैयार हूं. शिवपाल चुनाव लड़ने से हटने को तैयार हैं."

First published: 9 January 2017, 3:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी