Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » scholarship scam in Etawah has revealed that out of 118 schools under the scanner
 

यूपी में सामने आया करोड़ों का छात्रवृत्ति घोटाला, 118 स्कूल जांच के दायरे में

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 September 2018, 10:30 IST

उत्तर प्रदेश के इटावा और मेरठ में एक बड़ा छत्रवृत्ति घोटाला सामने आया है, जहां केवल कागज पर बने स्कूलों ने छात्रवृत्ति के नाम पर एक करोड़ रुपये निगल लिए. द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने बताया कि इटावा में 118 स्कूलों की जांच में 87 जमीन पर नहीं पाए गए.

साथ ही 31 स्कूलों ने कागज पर छात्रों की संख्या अधिक बताई है. आर्थिक अपराध शाखा के महानिदेशक (डीजी) राजेंद्र पाल के अनुसार मेरठ में 20 स्कूलों की जांच की जा रही है. उनका कहना है कि इनके अलावा और भी स्कूल जांच के दायरे में हैं.

 

इस मामले में सरकार ने 95 स्कूलों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मंजूरी दे दी है, लेकिन जांच में ईओओ द्वारा आठ स्कूलों के कामकाज में कोई विसंगतियां नहीं मिलीं. ईओओ के महानिदेशक राजेंद्र पाल सिंह ने कहा, "इटावा में 70% स्कूल मौजूद नहीं थे, क्योंकि मेरठ जिले में 20 से अधिक ऐसे स्कूलों का पता चला था."

इटावा की जांच ईओओ की कानपुर इकाई द्वारा आयोजित की जा रही है, जबकि मेरठ कार्यालय मेरठ में घोटाले की जांच कर रहा है. कानपुर में एक वरिष्ठ ईओओ अधिकारी ने कहा कि एक वर्ष में 1 करोड़ रुपये से ज्यादा का इजाफा हुआ था. छात्रवृत्ति निधि का सफाया 2008 में शुरू हुआ और 200 9 तक जारी रहा. ज्यादातर जूनियर और प्राथमिक विद्यालय धोखाधड़ी में शामिल थे.

ये भी पढ़ें : पीएम मोदी की इस योजना से 20 लाख लोगों को मिला डबल फायदा, आप भी उठायें लाभ

First published: 17 September 2018, 10:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी