Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » Shivpal Yadav turns emotional during a dinner party hosted by him in Lucknow
 

शिवपाल ने गाया 'उपकार' का गाना- कोई किसी का नहीं ये झूठे नाते हैं नातों का क्या...

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 January 2017, 9:17 IST
(फाइल फोटो)

समाजवादी परिवार में मचा घमासान अब नए दौर में पहुंच चुका है. रामगोपाल यादव के बुलाए आपातकालीन राष्ट्रीय अधिवेशन में सीएम अखिलेश के चाचा शिवपाल का प्रदेश अध्यक्ष पद छिन चुका है और नेताजी को संरक्षक का ओहदा देकर एक तरीके से राजनीतिक बियाबां में भेज दिया गया है.   

जाहिर है परिवार के इस संग्राम में रिश्तों की डोर कहीं न कहीं कमजोर हुई है. अध्यक्ष पद से हटाए जाने से आहत अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव का दर्द नए साल पर बाहर निकल आया. 

लखनऊ में शिवपाल सिंह यादव ने फाइव स्टार होटल में एक डिनर दिया. जब पार्टी के दौरान शिवपाल से उनका फरमाइशी गाना पूछा गया तो शिवपाल ने 70 के दशक की फिल्म उपकार का मशहूर गाना 'कसमे वादे प्यार वफा' सुनाने को कहा.

न्यू ईयर डिनर पार्टी में भावुक हुए शिवपाल

जब सिंगर ने उनका फरमाइशी गाना शुरू किया तभी अचानक शिवपाल ने माइक लेते हुए भावुक अंदाज में खुद गाने की लाइनें गाईं. शिवपाल ने गाने के शुरुआती बोल कसमें वादे प्यार वफ़ा सब बातें हैं बातों का क्या...कोई किसी का नहीं ये झूठे नाते हैं नातों का क्या... गुनगुनाया. 

शिवपाल ने इस पार्टी के दौरान कहा कि वह मुलायम सिंह यादव के साथ दिल्ली जा रहे हैं. शिवपाल ने साथ ही कहा कि साइकिल सिंबल को लेकर चुनाव आयोग में पक्ष रखा जाएगा. 

गौरतलब है कि रविवार को रामगोपाल यादव ने सपा का आपातकालीन राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाया था. इस दौरान चार अहम प्रस्ताव पास हुए. जिसमें अखिलेश की बतौर राष्ट्रीय अध्यक्ष नियुक्ति, शिवपाल की प्रदेश अध्यक्ष पद से बर्खास्तगी, अमर सिंह का सपा से निष्कासन और मुलायम सिंह को पार्टी का चीफ रहनुमा यानी संरक्षक बनाने का प्रस्ताव शामिल है. हालांकि इस अधिवेशन को मुलायम ने असंवैधानिक बताते हुए चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखी है. 

First published: 2 January 2017, 9:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी