Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » Grand Alliance Possible: Amidst gathering of Janta family Akhilesh Yadav talks to Prashant Kishor
 

सपा के 25 साल: 'जनता परिवार' के जमावड़े के बीच 'पीके'-अखिलेश की गुफ्तगू

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 November 2016, 12:13 IST
(एएनआई)

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ पार्टी अपनी स्थापना के 25 साल पूरे होने पर रजत जयंती समारोह मना रही है. लखनऊ के जनेश्वर मिश्र पार्क में हो रहे कार्यक्रम में जनता परिवार के पुराने दिग्गज एक मंच पर नजर आ रहे हैं.

समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने इस मौके पर राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव और बिहार के सीएम नीतीश कुमार को बुलाया था. नीतीश कुमार तो छठ का हवाला देकर नहीं पहुंच पाए हैं, हालांकि लालू यादव और शरद यादव इस समारोह में शिरकत कर रहे हैं.

इससे पहले उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव ने होटल में जाकर लालू, शरद यादव और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा से मुलाकात की. खबर है कि कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से भी अखिलेश की बात हुई. 

लालू: यूपी से बीजेपी को खदेड़ना है

यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंधन की सुगबुगाहट के बीच इस बातचीत को काफी अहम माना जा रहा है. हाल ही में प्रशांत किशोर ने दिल्ली में सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और अमर सिंह से मुलाकात की थी.

इस दौरान तीनों के बीच महागठबंधन को लेकर चर्चा हुई थी. सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस अखिलेश यादव के चेहरे के साथ महागठबंधन के पक्ष में है. रजत जयंती समारोह में पहुंचे आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने कहा, "जैसे बिहार से बीजेपी को खदेड़ा था उसी तरह से उत्तर प्रदेश से भी खदेड़ना है."

शरद: महागठबंधन पर अभी बात नहीं हुई

हालांकि जनता दल यूनाइटेड के वरिष्ठ नेता शरद यादव ने महागठबंधन को लेकर अपने पत्ते नहीं खोले हैं. हाल ही में नीतीश कुमार ने कहा था कि वह महागठबंधन के पक्ष में तभी हैं, जब सपा और बसपा एक साथ आएंगे.

बिहार की तर्ज पर यूपी में महागठबंधन की संभावनाओं पर सवाल पूछे जाने पर शरद यादव ने कहा, "महागठबंधन को लेकर अभी कोई बात नहीं हुई है. आगे क्या होगा देखते हैं."

इसके अलावा जनता दल सेकुलर के अध्यक्ष और पूर्व पीएम एचडी देवगौड़ा भी सपा की स्थापना के 25 साल पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे हैं. देवगौड़ा ने अभी महागठबंधन पर किसी चर्चा से इनकार किया है.

समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, "हम समाजवादी पार्टी के सिल्वर जुबली कार्यक्रम में आए हैं. अभी तक गठबंधन को लेकर कोई बातचीत नहीं हुई है."

अखिलेश-शिवपाल दिखे साथ

खास बात यह है कि सपा के इस रजत जयंती समारोह में अखिलेश यादव और शिवपाल यादव एक-दूसरे के करीब नजर आए. दोनों के बीच समारोह के मंच पर ही काफी देर तक बातचीत हुई.

इस दौरान अखिलेश और शिवपाल दोनों हंसते-मुस्कुराते नजर आए. इससे पहले भी कयासों को झुठलाते हुए तीन नवंबर को अखिलेश यादव की समाजवादी विकास रथयात्रा में शिवपाल पहुंचे थे. मुलायम और शिवपाल के साथ अखिलेश बैठे नजर आए थे.

शिवपाल ने अपने संबोधन के दौरान अखिलेश को दोबारा सरकार बनाने की शुभकामनाएं भी दी थी. हालांकि इससे पहले दोनों के बीच संबंध बेहद तल्खी के दौर में रहे हैं. जहां एक ओर अखिलेश ने शिवपाल और उनके करीबियों को कैबिनेट से बर्खास्त कर दिया था, वहीं शिवपाल ने भी बतौर सपा प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश के करीबी नेताओं को चुन-चुनकर सपा से बाहर का रास्ता दिखाया है.

प्रमोद अधिकारी
First published: 5 November 2016, 12:13 IST
 
अगली कहानी