Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » EC issues notice to Sakshi Maharaj for his controversial speech in Merrut
 

यूपी चुनाव 2017: साक्षी महाराज के प्रचार करने पर लग सकती है पाबंदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 January 2017, 12:25 IST

बीजेपी सांसद साक्षी महाराज के भड़काऊ भाषण देने के मामले में मुश्किल बढ़ने की संभावना है. खबर है कि उत्तर प्रदेश के मेरठ में उनके बयान पर संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग साक्षी के प्रचार करने पर प्रतिबंध लगा सकता है. 

इससे पहले शुक्रवार को मेरठ में उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने आपत्तिजनक बयान देते हुए बढ़ती आबादी के लिए इशारों में मुस्लिम समाज को जिम्मेदार ठहराया था. चुनाव आयोग ने इस मामले में मेरठ के डीएम से रिपोर्ट तलब की थी. 

चुनाव आयोग का साक्षी को नोटिस

डीएम की रिपोर्ट के बाद चुनाव आयोग ने साक्षी महाराज को नोटिस जारी करते हुए बुधवार तक जवाब मांगा है. आयोग ने नोटिस में साक्षी महाराज पर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के साथ ही सुप्रीम कोर्ट के फैसले को दरकिनार करने की बात भी कही है. इस मामले में साक्षी के खिलाफ पहले ही मेरठ में केस दर्ज हो चुका है. 

आयोग के मुताबिक यह प्रथम दृष्टया आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला है. उन्हें बुधवार सुबह तक यह बताने के लिए कहा गया है कि आखिर क्यों न उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए? 

पढ़ें: साक्षी महाराज ने कहा- हिंदू घटा तो देश बंटा, चुनाव आयोग ने DM से मांगी रिपोर्ट

साक्षी महाराज को जारी नोटिस में कहा गया है उन्होंने 4 जनवरी से लागू आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है. यह आचार संहिता उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के एलान के बाद से लागू है. नोटिस में कहा गया है कि उनकी टिप्पणियों से समाज के वर्गों में शत्रुता को बढ़ावा देने की बात साफ दिखती है.

साक्षी ने क्या कहा था?

साक्षी महाराज ने कहा, "जनसंख्या को लेकर देश में एक सख्त और बढ़िया कानून लाने की जरूरत है, चाहे बच्चा एक हो या चार हो, सबके लिए समान कानून बनाने का समय आ गया है. अगर जनसंख्या बढ़ती चली जा रही है तो इसका जिम्‍मेदार हिन्दू नहीं है." 

साक्षी ने साकहा, "बढ़ती जनसंख्या के लिए वो लोग जिम्मेदार हैं, जो चार पत्नियां रखने और 40 बच्चे पैदा करने का समर्थन करते हैं. माता सिर्फ़ बच्चे पैदा करने की मशीन नहीं हैं. चाहे वो हिंदू हो या मुस्लिम, उनका सम्मान किया जाना चाहिए." 

इस दौरान भाजपा सांसद ने तीन तलाक प्रथा को खत्म करने की पैरवी करते हुए केंद्र सरकार से जल्द से जल्द समान नागरिक संहिता को लागू करने की अपील की. 

हालांकि विवाद बढ़ने पर साक्षी महाराज ने सफाई देते हुए कहा, "जनसंख्या बढ़ रही है , जमीन उतनी ही है. मैंने कहा, औरत मशीन नहीं हैं. 4 बीवी, 40 बच्चे, 3 तलाक नहीं चलेगा." हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है क् चुनाव के दौरान जाति और धर्म के आधार पर वोट मांगना गैरकानूनी है.

First published: 10 January 2017, 12:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी