Home » उत्तर प्रदेश चुनाव » UP Election 2017: No relief for UP minister Gayatri Prajapati from Supreme Court
 

गायत्री प्रजापति को सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली राहत, अब तक फ़रार

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 March 2017, 15:36 IST
(एएनआई)

यूपी के कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिल सकी है. समाजवादी पार्टी के अमेठी सीट से उम्मीदवार गायत्री प्रजापति पर एक महिला ने रेप का आरोप लगाया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद  लखनऊ पुलिस ने प्रजापति और उनके सात सहयोगियों के ख़िलाफ़ गैंगरेप का केस दर्ज किया था. 

27 फरवरी को अमेठी में मतदान के बाद से ही गायत्री प्रजापति फरार चल रहे हैं. न तो वे लखनऊ स्थित अपने सरकारी आवास पर मिले न ही अमेठी में नजर आए. उनके खिलाफ ग़ैर ज़मानती वारंट जारी हुआ था. गिरफ़्तारी से बचने के लिए गायत्री प्रजापति ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी. सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई के दौरान मंत्री गायत्री प्रजापति को राहत देने से इनकार करते हुए संबंधित अदालत में जाने को कहा है. 

पढ़ें: गायत्री प्रजापति बर्खास्त: 2जी घोटाले से भी गहरी है उत्तर प्रदेश का खनन घोटाले की जड़

यूपी के परिवहन मंत्री गायत्री प्रजापति के खिलाफ लखनऊ के गौतम पल्ली थाने में केस दर्ज हुआ था. कोर्ट के आदेश के बाद यूपी पुलिस ने गायत्री प्रजापति और उनके सहयोगियों अशोक तिवारी, पिंटू सिंह, विकास शर्मा, चंद्रपाल, रूपेश और आशीष शुक्ला के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 376डी, 511, 504, 506 और पॉक्सो एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की थी.

राज्यपाल ने अखिलेश को लिखा खत 

गायत्री प्रजापति पर आरोप का मामला यूपी चुनाव में भी एक मुद्दा बना हुआ है. पीएम मोदी अपनी कई सभाओं में गायत्री प्रजापति का जिक्र करते हुए अखिलेश सरकार पर निशाना साधा चुके हैं. वाराणसी में भी सभा के दौरान पीएम ने कहा कि सीएम अखिलेश यादव गायत्री प्रजापति मंत्र का जाप कर रहे हैं. 

इससे पहले यूपी के राज्यपाल राम नाईक ने भी सीएम अखिलेश यादव को चिट्ठी लिखकर गायत्री प्रजापति को कैबिनेट में बरकरार रखने पर सवाल उठाए थे. राज्यपाल ने सीएम से इस मामले में रुख साफ करने को कहा था.

खनन मंत्री रह चुके गायत्री प्रजापति पहले भी विवादों में रहे हैं. खनन आवंटन में गड़बड़ी के आरोप में इलाहाबाद हाईकोर्ट पिछले साल 20 जुलाई को सीबीआई जांच का आदेश दे चुका है. इसके बाद सीएम अखिलेश यादव ने उन्हें बर्खास्त कर दिया था. लेकिन माना जाता है कि मुलायम सिंह यादव के दबाव की वजह से गायत्री को अखिलेश ने फिर से कैबिनेट में शामिल कर लिया था. 

पढ़ें: यूपी: खनन मंत्री गायत्री प्रजापति को सीएम अखिलेश यादव ने किया बर्खास्त

'गायत्री को जल्द करेंगे गिरफ्तार'

इस बीच गायत्री प्रजापति का अब तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है. इस मामले को लेकर यूपी पुलिस सवालों के घेरे में है. यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर दलजीत चौधरी का कहना है, "हम उन्हें जल्द गिरफ्तार करेंगे. जिला पुलिस और स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) दोनों मामले को देख रही हैं." 

इससे पहले गायत्री प्रजापति के विदेश भागने की आशंका को देखते हुए उनके पासपोर्ट को निलंबित कर दिया गया था. साथ ही देश के एयरपोर्ट पर लुक आउट नोटिस भी जारी किया गया है.

First published: 6 March 2017, 12:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी