Home » उत्तर प्रदेश » 27 prisoners found hiv infected in ghaziabad’s dasna jail and 10 in meerut
 

यूपी की जेलों में एड्स ने दी दस्तक, 37 कैदी चपेट में

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 March 2018, 11:25 IST

यूपी के गाजियाबाद में दो दर्जन से अधिक लोगों में एचआईवी संक्रमण पाये जाने का हैरान करने वाला मामला सामने आया है. इससे अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है. दरअसल एचआईवी संक्रमण ग्रस्त सभी 27 व्यक्ति गाजियाबाद की डासना जेल के कैदी हैं.

कैदियों में एचआईवी संक्रमण पाए जाने के बाद मेडिकल ऑफिसर ने जेल में बंद सभी पांच हजार कैदियों की एचआईवी जांच के आदेश दिये हैं. बता दें कि इससे पहले पिछले साल करीब 49 कैदी एचआईवी पॉजिटिव पाए गये थे. यही नहीं यूपी की ही मेरठ जेल में भी 10कैदी एचआईवी पॉजिटिव पाए गए हैं.

बता दें कि मेरठ जेल में एचआईवी पॉजिटिव पाए गए सभी कैदियों का मेरठ मेडिकल कॉलेज के ए.आर.टी सेंटर में इलाज चल रहा है. मेरठ के सीएमओ राजकुमार के मुताबिक सभी कैदियों पर अभी मुकदमा चल रहा है और जेल में आने से पहले ही ये लोग एचआईवी संक्रमित थे.

इससे पहले उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में झोलाछाप डॉक्टरों की वजह से 40 लोग एचआईवी पॉजिटिव हो गए थे. दरअसल इन झोलाछाप डॉक्टरों बांगरमऊ तहसील के कुछ गांवों के लोगों का इलाज किया था. कथित तौर पर एक ही इंजेक्शन बार-बार इस्तेमाल किया गया, जिससे इन लोगों को संक्रमण हुआ. स्वास्थ्य विभाग ने अज्ञात लोगों के खिलाफ थाने में एफआईआर दर्द कराई थी.

ये भी पढ़ें- गोरखपुर और फूलपुर उप चुनाव क्यों CM योगी का पहला राजनीतिक परीक्षण है

स्थानीय लोगों के मुताबिक कुछ गांवों में साईकिल पर घूमकर एक झोलाछाप डॉक्टर लोगों का इलाज करता था. ये झोलाछाप एक ही इंजेक्शन का कथित तौर पर बार-बार प्रयोग करता था इस वजह से इस इलाके में करीब 40 लोग एचआईवी संक्रमित हो गए. झोलाछाप से इलाज करवाने वाले कुछ और लोगों में एचआईवी संक्रमण के लक्षण दिखे हैं

स्थानीय लोगों के मुताबिक कुछ गांवों में साईकिल पर घूमकर एक झोलाछाप डॉक्टर लोगों का इलाज करता था. ये झोलाछाप एक ही इंजेक्शन का कथित तौर पर बार-बार प्रयोग करता था इस वजह से इस इलाके में करीब 40 लोग एचआईवी संक्रमित हो गए. झोलाछाप से इलाज करवाने वाले कुछ और लोगों में एचआईवी संक्रमण के लक्षण दिखे हैं

ये भी पढ़ें- गोरखपुर और फूलपुर उप चुनाव क्यों CM योगी का पहला राजनीतिक परीक्षण है

First published: 10 March 2018, 9:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी