Home » उत्तर प्रदेश » 30 children have died for the disruption of oxygen supply in the paediatrics wardat the state-run Baba Raghav Da
 

गोरखपुर: BRD मेडिकल कॉलेज में 30 बच्चों की मौत पर सियासत तेज़

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 August 2017, 10:51 IST

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृहक्षेत्र गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में शुक्रवार शाम ऑक्सीजन की कमी के कारण 30 बच्चों के मरने की खबर के बाद सियासत तेज हो गई है. 

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के कहने पर पार्टी के पांच बड़े नेता बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज अस्पताल पहुंचे. कांग्रेस की तरफ़ से गुलाम नबी आजाद, राज बब्बर, संजय सिंह, प्रमोद तिवारी और आरपीएन सिंह मरीजों से मिले. इस दौरान कांग्रेस नेताओं ने घटना के बारे में अस्पताल के डॉक्टरों से भी बातचीत की.

गुरुवार रात ऑक्सीजन की कमी से मरने वाले 13 बच्चे एनएनयू वार्ड और 17 इंसेफलाइटिस वार्ड में भर्ती थे. बताया जा रहा है कि 69 लाख रुपये का भुगतान न होने की वजह से ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली फर्म ने ऑक्सीजन की सप्लाई गुरुवार की रात से ठप कर दी थी. खबरों के मुताबिक पिछले 5 दिनों में अस्पताल में 60 बच्चों की मौत हो चुकी है. हालांकि अस्पताल प्रशासन ने ऑक्सीजन की कमी से इनकार किया है.

हालांकि उत्तर प्रदेश सरकार ने इन आरोपों को खारिज कर दिया है.राज्य के सूचना विभाग ने देर शाम जारी बयान में कहा कि कुछ टीवी चैनलों द्वारा बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 30 बच्चों की मौत की खबरें दिखाई जा रही हैं जो भ्रामक हैं.

सरकार का कहना है कि, मेडिकल कॉलेज में भर्ती 7 मरीजों की विभिन्न चिकित्सीय कारणों से 11 अगस्त को मृत्यु हुई. घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए गए हैं. वहीं डीएम ने 5 सदस्यीय टीम गठित की है, जो कि आज अपनी रिपोर्ट सौंपेगी.

इस पूरी घटना के बाद विपक्ष ने इस मामले पर योगी सरकार को घेरना शुरू कर दिया है. अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है कि गोरखपुर मे ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की दर्दनाक मौत, सरकार ज़िम्मेदार. कठोर कार्रवाई हो, 20-20 लाख का मुआवज़ा दे सरकार. 

इसके अलावा यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह और चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन भी गोरखपुर पहुंच गए हैं. जानकारी के मुताबिक, सीएम के साथ दोनों मांत्रियों की बैठक हुई है. वहां से आने के बाद दोनों मंत्री सीएम को घटना की पूरी रिपोर्ट देंगे.

First published: 12 August 2017, 10:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी