Home » उत्तर प्रदेश » Agitated Shiksha Mitra begins protest again in Lucknow
 

भड़के शिक्षा मित्रों ने यूपी में फिर शुरू किया आंदोलन

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 August 2017, 16:14 IST

सुप्रीम कोर्ट से समायोजन रद्द होने के बाद उत्तर प्रदेश के शिक्षा मित्रों और सरकार के बीच वार्ता विफल होने पर गुरुवार से फिर आंदोलन शुरू हो गया है. इस बीच सरकार ने भी किसी भी परिस्थति से निपटने की पूरी तैयारी कर ली है.

अपर मुख्य सचिव राज प्रताप सिंह से हुई वार्ता की विफलता के बाद शिक्षामित्रों ने घोषणा की है कि वे अपने पूर्व घोषित कार्यक्रम के मुताबिक, 17 से 19 तक जिलों में आंदोलन करेंगे और 21 से लखनऊ में मांगें पूरी होने तक प्रदर्शन जारी रखेंगे.

उल्लेखनीय है कि समायोजित शिक्षामित्र अभी तक मिल रहे वेतन को ही मानदेय के रूप में दिए जाने की मांग कर रहे हैं. शिक्षामित्रों के आंदोलन की घोषणा के बाद अपर मुख्य सचिव आर.पी. सिंह ने बुधवार को शिक्षामित्र संगठनों को वार्ता के लिए बुलाया था.

आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष जितेन्द्र शाही ने बताया, "हमें 'समान काम, समान वेतन' से कम पर कुछ भी मंजूर नहीं है. मुख्यमंत्री योगी ने पूर्ववर्ती सपा सरकार के कार्यकाल में गोरखपुर में एक सभा में कहा था कि सरकार अध्यादेश लाकर शिक्षामित्रों को शिक्षक का दर्जा दे, लेकिन सत्ता में आने के बाद वह अपनी बात भूल रहे हैं."

दूसरी तरफ सरकार ने भी आंदोलन से निपटने की पूरी तैयारी कर रखी है.

First published: 17 August 2017, 16:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी