Home » उत्तर प्रदेश » Allahabad high court says Sakshi Mishra and Ajitesh marriage is legal
 

इलाहाबाद हाईकोर्ट परिसर में अजितेश से मारपीट, कोर्ट ने साक्षी और अजितेश को सुरक्षा देने का दिया आदेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 July 2019, 13:11 IST

साक्षी मिश्रा और उनके पति अजितेश ने अपनी सुरक्षा की मांग को लेकर सोमवार को इलाहाबाद कोर्ट में पेश हुए. कोर्ट ने सुनवाई करते हुए दोनों को सुरक्षा देने का आदेश दिया. वहीं कोर्ट में अजितेश के वकील ने कहा कि हाईकोर्ट परिसर में कुछ लोगों ने अजितेश के साथ मारपीट की है, हालांकि पुलिस ने इस मारपीट करने वाली बात से इनकार किया है.

बता दें कि साक्षी मिश्र बरेली से बीजेपी के विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल की बेटी हैं. जिन्होंने दलित समुदाय के अजितेश से शादी की है. शादी के बाद से ही साक्षी लगातार आरोप लगा रही हैं कि उनके पिता और पिता के दोस्तों से उन दोनों को अपनी जान का खतरा है.

कोर्ट में एक चश्मदीद वकील ने दावा किया कि कोर्ट आ रहे अजितेश पर हमला किया गया. वहीं जिले के एसएसपी अतुल शर्मा ने किसी मारपीट की घटना से इनकार किया है. हालांकि इस बात का अभी तक पता नहीं चला कि अजितेश के साथ मारपीट किसने की. दोनों के वकीलों का कहना है, "केवल अजितेश की पिटाई हुई है. यह पता नहीं चल पाया है कि हमला करने वाले कौन लोग थे, लेकिन हमले से यह सिद्ध होता है कि उनकी जिंदगी खतरे में है. इसी वजह से वे सुरक्षा की मांग कर रहे हैं.

वहीं इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सुनवाई के दौरान साक्षी और अजितेश की शादी को वैध बताया है. कोर्ट ने प्रशासन को आदेश दिया कि इस जोड़े को सुरक्षा दी जाए. इलाहाबाद हाई कोर्ट में शादी को लेकर पेश किए गए साक्ष्यों को सही मानते हुए उनकी शादी के प्रमाण पत्र को फर्जी मानने से इनकार कर दिया.

हाई कोर्ट ने अजितेश पर हमले के बाद पुलिस अधिकारियों को तलब किया है. जज ने अजितेश को कोर्ट रूम में ही बैठने को कहा. इसी के साथ कोर्ट ने साक्षी के विधायक पिता राजेश मिश्रा को कड़ी फटकार भी लगाई.

इलाहाबाद हाईकोर्ट के बाहर से दंपति का अपहरण, प्रेम विवाह करने के बाद मांगने पहुंचे थे सुरक्षा

First published: 15 July 2019, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी