Home » उत्तर प्रदेश » Azam Khan gets jail with son and wife, fake certificate case
 

आज़म खान को बेटे और पत्नी सहित भेजा गया जेल, फर्जी प्रमाणपत्र का मामला

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 February 2020, 14:46 IST

समाजवादी पार्टी के सांसद आज़म खान के साथ उनके बेटे अब्दुल्ला आज़म और पत्नी तज़ीन फातिमा को उत्तर प्रदेश के रामपुर की एक स्थानीय अदालत ने सात दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. परिवार के सदस्यों को अब्दुल्ला आज़म द्वारा निर्मित फर्जी जन्म प्रमाण पत्र से संबंधित एक मामले में बुधवार को न्यायिक हिरासत में भेजा भेजा गया. जो 2017 में सुआर विधानसभा सीट से जीते थे.

मामला अदालत में जाने के बाद अब्दुल्ला को अपनी विधानसभा सदस्यता गंवानी पड़ी थी.  \सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए रामपुर कोर्ट परिसर में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है. जबकि लोक लेखा समिति (PAC) की दो कंपनियों को रामपुर जेल में अतिरिक्त बल के साथ आज़म खान के आवास पर तैनात किया गया है. अब्दुल्ला पर पहले भी दो पैन कार्ड रखने का आरोप लगाया गया था.

अब्दुल्ला ने 2017 के राज्य विधानसभा चुनावों में सुआर निर्वाचन क्षेत्र से जीत हासिल की थी, जहां वह बसपा के नवाब काजिम अली, भाजपा की लक्ष्मी सैनी और रालोद के नवीन कुमार के खिलाफ चुनाव लड़ रहे थे.

अब्दुल्ला आजम खान के दो जन्म प्रमाणपत्र होने के मामले में भाजपा लघु उद्योग प्रकोष्ठ के क्षेत्रीय संयोजक आकाश सक्सेना ने 3 जनवरी 2019 को आजम खां, उनकी पत्नी फात्मा और बेटे अब्दुल्ला के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी. आज़म खान पर आरोप है कि वह कई बार कहने के बाद भी अदालत में पेश नहीं हुए. जिसके बाद उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया था. इस मामले की सुनवाई एडीजे-6 धीरेंद्र कुमार कोर्ट में चल रही थी.

इससे पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अब्दुल्ला आज़म को चुनाव के समय 25 वर्ष से कम उम्र के होने के कारण राज्य विधानसभा से अयोग्य घोषित कर दिया था. वह समाजवादी पार्टी के नेता हैं और सुआर विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं. याचिका बहुजन समाज पार्टी के नवाब काजिम अली ने दायर की थी जिन्होंने आरोप लगाया था कि अब्दुल्ला का जन्म 1990 के बजाय 1993 में हुआ था. जिसका उन्होंने अपने चुनाव हलफनामे में उल्लेख किया था, इस तरह उन्हें 2017 के यूपी चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य बना दिया.

बालाकोट में पाकिस्तान ने फिर शुरु की 'नफरत की पाठशाला', मदरसों की आड़ में चला रहा आतंक के अड्डे

First published: 26 February 2020, 14:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी