Home » उत्तर प्रदेश » Badaun ambedkar broken statue re built in saffron colour
 

यूपी: अंबेडकर की मूर्ति को जिला प्रशासन ने कर दिया भगवा

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 April 2018, 11:32 IST

उत्तर प्रदेश के बदायूं में अंबेडकर की मूर्ति को लेकर फिर एक नया विवाद सामने आया है. हाल ही में बदायूं में अंबेडकर की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था. जिसके बाद जिला प्रशासन ने फिर से इस मूर्ति को बनवाया, लेकिन इस बार आंबेडकर की मूर्ति को भगवा रंग से रंग दिया है.

यह मामला दरसल, शुक्रवार की रात का है. जब पुलिस अधिकारियों और स्थानीय लोगों की उपस्थिति में जिले के दुगुर्यिया गांव में अंबेडकर की प्रतिमा को ध्वस्त किया गया था.

लेकिन स्थानीय लोगों के विरोध के बाद, प्रशासन ने आगरा से अंबेडकर की प्रतिमा का आयोजन किया और रविवार को दुबारा इसका उद्घाटन किया. लोगों को हैरानी तब हुई. जब इस बार मूर्ति को नीली की जगह भगवा रंग से रंगा पाया. एक और हैरानी की बात यह थी की कि बीएसपी के क्षेत्रीय प्रमुख हेमेंद्र गौतम भी अपने समर्थकों के साथ मौके पर मौजूद थे.

भाजपा की अगुवाई वाली राज्य सरकार पर रंग की राजनीति चलाने का आरोप लगाते हुए, समाजवादी पार्टी के विधायक और सपा के प्रवक्ता सुनील सिंह साजन ने आरोप लगाया कि सरकार सभी चीजों में भगदड़ करने में व्यस्त है, लेकिन इससे उनको कोई फायदा नहीं होने जा रहा है.

"सरकार रंग की राजनीति में व्यस्त है वे इमारतों, सीमाओं, पार्कों को भगवा रंग में रंगने में व्यस्त हैं. अब वे अंबेडकर की प्रतिमा का रंग भगवा से बदलकर सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा यह उनकी मदद करने वाला नहीं है, बजाय इसके लोग को क्या करनेा है उन्हें बेहतर पता है.

अभी हाल हीं में, राज्य सरकार ने सामाजिक सुधारक और दलित कार्यकर्ता भीमराव अंबेडकर का नाम बदलकर सभी सरकारी दस्तावेजों और रिकॉर्डों में भीमराव रामजी अंबेडकर के रूप में बदलने का आदेश जारी किया था. जिसकी विपक्ष ने काफी आलोचना भी की.

यह आदेश सामान्य प्रशासन विभाग के मुख्य सचिव जितेंद्र कुमार ने जारी किया था, जिन्होंने संविधान की आठवीं अनुसूची का संज्ञान दिया. जिसमें अंबेडकर का नाम भीमराव रामजी अंबेडकर के रूप में लिखा गया है. पिछले साल राज्यपाल राम नाइक ने इस मुद्दे को उठाया था जिसके बाद यह किया गया. उन्होंने कहा कि संविधान के पन्नों पर अंबेडकर के हस्ताक्षर में उनका पूरा नाम शामिल है और इसलिए उन्हें उस संदर्भ में संदर्भित किया जाना चाहिए.

First published: 10 April 2018, 11:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी